कोरोना स्ट्रेन बढ़ता ही जा रहा है। हाल ही में 13 और यूनाइटेड किंगडम (यूके) के नए कोरोनो वायरस वेरिएंट के लिए लौटे लोगों ने सकारात्मक परीक्षण किया है। इन ताजा 13 मामलों के साथ, नए कोरोनो वायरस वेरिएंट से संबंधित कुल मामले बढ़कर 71.71 हो गए हैं, जिनकी पहचान भारत में आज तक यूके वेरिएंट स्ट्रेन को ले जाने के रूप में की गई है। इन सभी व्यक्तियों को संबंधित राज्य सरकारों द्वारा नामित स्वास्थ्य देखभाल सुविधाओं में एकल कमरे के अलगाव में रखा गया है।


इन्हीं के साथ इनके घनिष्ठ संपर्कों को भी संगरोध के तहत रखा गया है। सह-यात्रियों, पारिवारिक संपर्कों और अन्य लोगों के लिए व्यापक संपर्क अनुरेखण शुरू किया गया है। अन्य नमूनों पर जीनोम अनुक्रमण चल रहा है। स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताया कि परिणाम भारतीय सरस-सीओवी-2 जीनोमिक्स कंसोर्टियम (INSACOG) प्रयोगशाला द्वारा जारी किए गए सकारात्मक नमूनों की जीनोम अनुक्रमण पर आधारित हैं। COVID-19 में उत्परिवर्तन की निगरानी के लिए केंद्र द्वारा INSACOG प्रयोगशालाएं स्थापित की गई हैं।


इससे पहले, केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने था कहा कि स्थिति सावधानीपूर्वक निगरानी के अधीन है और INSACOG प्रयोगशालाओं को नमूनों की बढ़ी निगरानी, रोकथाम, परीक्षण और प्रेषण के लिए राज्यों को नियमित सलाह प्रदान की जा रही है। 25 नवंबर से 23 दिसंबर के बीच ब्रिटेन से भारत के विभिन्न हवाई अड्डों पर 33,000 से अधिक लोग उतरे है। बताया जा रहा है कि कोरोना स्ट्रेन के कारण यूके के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन ने भारत का दौरा रद्द कर दिया है।