मेघालय बोर्ड आफ सेंकेंडरी एजुकेशन द्वारा घोषित बारहवीं परीक्षा के परिणामों पर आज भी आशंका बनी हुई है। छात्रों में असमंजस की स्थिति है, क्योंकि इसके पीछे बड़ी वजह यह है कि सोशल मीडिया पर फर्जी परीक्षा परिणाम दिख रहा है।


Http://files.nvshg.org नामक एक वेबसाइट पर बारहवीं के परीक्षा परिणाम देखे गए हैं। सत्यापन पर यह पाया गया कि वेबसाइट पर जिस परिणाम को देखा जा रहा है, वह वर्ष 2018 के हैं। परिणाम के लीक होने की अफवाह ने छात्रों एवं उनके अभिभावकों को चिंतित कर दिया है।


इसकी पूरी जांच के बाद बोर्ड के अधिकारियों ने पाया कि अफवाहों का कारण अज्ञात वेबसाइट की शरारत है, जिसने पिछले साल के परिणाम प्रकाशित किए थे। एंबोस के निदेशक एम मार्बनियांग ने बताया कि उन्होंने पाया है कि वेबसाइट ने पिछले साल के परिणाम प्रकाशित किए थे। वेबसाइट ने अजीब स्थिति पैदा कर दी।


उन्होंने कहा कि वेबसाइट में प्रकाशित मेधावी छात्रों की सूची भी पिछले साल की थी। इस बीच एंबोस के संयुक्त निदेशक ने कहा कि उन्होंने वेबसाइट को बंद करने के लिए मेघालय पुलिस के साइबर अपराध सेल को लिखा है। उन्होंने पुलिस से उन लोगों का भी पता लगाने का अनुरोध किया है, जो वेबसाइट चला रहे हैं। यह वास्तव में दुर्भाग्यपूर्ण है कि वे बोर्ड की छवि को बदनाम करने का प्रयास कर रहे हैं।

इस बीच छात्रों के माता-पिता और स्कूल अधिकारियों से सोशल मीडिया में फैली अफवाहों का शिकार ने होने का आग्रह किया गया है। बोर्ड कब परिणाम घोषित करेगा, इसकी आधिकारिक सूचना सब को दी जाएगी। अगले सप्ताह बारहवीं के कला संकाय और दसवीं के परिणाम घोषित किए जा सकते हैं।