भूटान में नाबालिग के एक बच्चे को जन्म देने के बाद देश में सामाजिक भूचाल आ गया है। आरोप है कि परिजनों ने बारह वर्षीय बालिका की प्रेग्नेंसी को छिपाए रखा और चुपचाप पिछले सप्ताह प्रसव करवाया। उधर, पीड़िता का कहना है कि उसके साथ रेप किया गया था।

भूटान के वांगफू गेवोग में स्थानीय प्रशासक का कहना है कि पीड़ित परिवार अब दावा कर रहा है कि उन्हें खुद प्रेग्नेंसी के बारे में पता नहीं चला। जिस स्कूल में बालिका पढ़ती थी वहां भी किसी को कुछ मालूम नहीं। जानकारी के अनुसार सच तब सामने आया जब बालिका को वांगफू बेसिक हैल्थ यूनिट (बीएचयू) ले जाया गया, जिसने गेवोग (गांव क्लस्टर) के अधिकारियों को इसकी सूचना दी। गेवोग ने पुलिस को अलर्ट किया, जिसने पैंतीस वर्षीय संदिग्ध को मामले में गिरफ्तार किया। 

भूटान सरकार के पिछले साल के आंकड़ों के मुताबिक द्जोंगखग (प्रशासनिक उप-मंडल) में ही नाबालिगों के गर्भधारण के 237 मामले उजागर हुए थे। हा और त्सिरंग जोंगखग के आंकड़े उपलब्ध नहीं थे। सबसे अधिक मामले थिंपू (55) में दर्ज किए गए, उसके बाद चुखा (30) और ट्रैशिगंग (20) में दर्ज किए गए। जानकारी के अनुसार पिछले साल 12 साल से अधिक उम्र की 33 नाबालिगों को हवस का शिकार बनाया गया। बारह से कम उम्र की पांच बालिकाओं से रेप किया गया।