उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ में जहरीली शराब पीने से अब तक 12 लोगों की मौत हो चुकी है जबकि एक को गंभीर हालत में जेएन मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराया गया है। घटनास्थल पर डीएम-एसपी के अलावा एसडीएम रंजीत सिंह, जिला आबकारी अधिकारी और वन अधिकारी भी पहुंचे हैं। 

गांव के दो देसी शराब के ठेके को सील करा दिया गया है। अलीगढ़ के जिलाधिकारी चंद्र भूषण सिंह ने कहा कि  मामले की जांच की जा रही है, जांच में जो भी निकल कर आएगा, उसी आधार पर कार्रवाई की जाएगी।

वहीं मामले की जानकारी होने पर सीएम योगी ने संज्ञान लेते हुए दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई के निर्देश दिए हैं। सीएम ने अधिकारियों को निर्देश देते हुए कहा कि दोषियों पर तत्काल एनएसए की कार्रवाई की जाए। सीएम योगी ने आबकारी और गृह विभाग के अधिकारियों को तलब किया है। दोषियों की संपत्ति जब्त कर नीलामी होगी और उससे मृतकों के परिजनों को मुआवजा दिया जाएगा।

एसडीएम कोल रंजीत सिंह ने बताया कि गांव करसुआ में 9 लोग और छेरत में 3 लोगों की जहरीली शराब पीने जाने गईं हैं। जिन लोगों की मौत हुई है। अभी उनके परिजनों ने बताया है कि गांव ही ठेके से शराब खरीद कर पी थी। मरने वालों में दो करसुआ में स्थित एचपी गैस बॉटलिंग प्लांट के ड्राइवर हैं। वहीं तीन मृतक गांव के ही रहने वाले हैं। शवों को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है।

उधर, 12 मौतों के बाद गांवों में कोहराम मचा हुआ है। ग्रामीणों में गुस्सा है। ग्रामीणों ने शराब ठेका के खिलाफ हंगामा भी किया। मौके पर पहुंची पुलिस मामले की जांच कर रही है।