दूध निकालने के बाद खुले में अपने दुधारू पशु छोडऩे वाले पशुपालकों को अब गौ अभयारण्य से अपने पशु छुड़वाने के लिए दोगुना जुर्माना देना होगा। हिसार नगर निगम आयुक्त अशोक कुमार गर्ग ने आदेश जारी कर इस राशि को दोगुना किया है। शहर की सड़कों पर पशुपालक अपने दुधारू पशु खुले में न छोड़ें, क्योंकि 5100 रूपए की राशि को पशुपालक गंभीरता से नहीं ले रहे थे। 

इसलिए यह कदम नगर निगम प्रशासन की ओर से लिया गया है। हालांकि गौ अभयारण्य में जिस गाय ने बच्चों को जन्म दिया होगा, उस पशु पर उसके मालिक का कोई हक नहीं होगा। गर्ग ने कहा कि शहर में डेयरी संचालक व अन्य पशुपालक अपने पशुओं को दुध निकालने के बाद खुले में छोड़ देते हैं, जो सड़कों पर हादसों का कारण बनते हैं। 

नगर निगम प्रशासन इन दुधारू पशुओं को पकड़कर ढंढूर स्थित गोअभयारण्य में ले जाता है। उ न्होंने कहा कि गौ अभयारण्य से दुधारू पशु छोडऩे की एवज में 5100 रूपए जुर्माना लिया जाता था, लेकिन अब इस राशि को बढ़ाकर 11000 रूपए कर दिया गया है। वहीं नगर निगम की टीम नियमित रूप से शहर में पशु पकड़ो अभियान चलाये हुए है।