पंजाब के गुरदासपुर जिले में सीमा पर सलाच गांव में पाकिस्तान की ओर से ड्रोन के जरिए भेजे गए 11 ग्रेनेड बरामद किये गये हैं। ग्रेनेड सरहद से करीब पौन किलोमीटर की दूरी पर गिराए गए तथा उन्हें पैक कर रखा गया जैसे अंडे को ट्रे में रखा जाता है। पुलिस की ओर से दो लोगों को शक के आधार पर पकड़ा गया था, लेकिन जांच में उनका कोई लिंक सामने नहीं आया है, इसलिये पूछताछ के बाद उन्हें छोड़ दिया गया है। 

इस बारे में थाना दोरांगला में विस्फोटक पदार्थ अधिनियम 1908 के तहत मामला भी दर्ज किया गया है। इस बारे में एजेंसियां जांच में जुटी है तथा सीमा पर तलाशी अभियान को तेज किया गया है। ज्ञातव्य है कि गत 19 दिसंबर को करीब साढे ग्यारह बजे बीएसएफ की 58 बटालियन ने बीओपी चक्करी के पास पाकिस्तान की ओर से आए ड्रोन की आवाज सुनी थी। बीएसएफ के जवानों की ओर से 18 राउंड फायर भी किए गए थे, जिसके बाद बीएसएफ, पंजाब पुलिस तथा अन्य एजेंसियों  की टीमों की ओर से बार्डर के समीप के इलाकों में तलाशी अभियान भी चलाया गया था। सर्च के दौरान ही गुरदासपुर पुलिस ने ग्रेनेड बरामद किये हैं। 

गुरदासपुर के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक राजिंदर सिंह सोहल ने बताया कि पिछले दिनों पाकिस्तान की ओर से दोरांगला के गांव चक्करी में ड्रोन आने की जानकारी मिली थी तथा पुलिस की ओर से भी सर्च अभियान छेड़ा गया था। सीमावर्ती गांव सलाच, मिआनी, चक्करी आदि में पुलिस ने तलाशी अभियान छेड़ा था। सर्च के दौरान ही पुलिस टीम को रविवार देर शाम करीब छह बजे सलाच में एक शिंकजेनुमा पैक किए गए 11 ग्रेनेड बरामद हुए । सोहल ने बताया कि इन ग्रेनेड़ो पर कोई मार्क नहीं लगा और जांच के बाद ही पता चलेगा कि यह कहां के बने है। उन्होंने बताया कि ग्रेनेड़ मिलने के बाद वहीं पास में पुलिस ने दो लोगों से शक के आधार पर जांच की। उनका कोई भी लिंक सामने नहीं आया। उन्होंने बताया कि इस बारे में थाना दोरांगला में मामला दर्ज कर बेहद बारिकी से छानबीन भी की जा रही है।