असम के बिस्वनाथ जिले में गुरूवार को मवेशी चाेरी के संदेह में हुर्इ माॅब लिंचिग की घटना में पुलिस ने ग्यारह लोगों को गिरफ्तार कर लिया है। गिरफ्तार किए गए सभी लोग आदिवासी समुदाय से हैं जो राजधानी गुवाहाटी से 250 किमी दूर दिप्लोंगा टी एस्टेट में काम करते हैं। 

पुलिस से मिली जानकारी के मुताबिक घटना गुरूवार सुबह की है। जब गांव में रहने वाले संकट मुंडा की दो गाय खो गई थीं। जिन्‍हें खोजने के ल‍िए वह गुरुवार की सुबह अपने घर से न‍िकला था। संकट ने कुछ दूरी पर देखा क‍ि चार लोग गायाें को लेकर जा रहे थे। संकट ने उन्‍हें जब रोकने की कोश‍िश की, तो वे गायों को लेकर भागने लगे। इसी दौरान वहां गांव के अन्‍य लोग पहुंच गए और उन्‍होंने गाय ले जा रहे देबेन राजबंशी (35) , पूजन घटोवार (40) , फूलचंद साहू (25) और व‍िजय नायक (25) को पीटना शुरू कर द‍िया।


घटना की जानकारी मिलते ही मौके पर पहुंची पुलिस ने चारों को हिंसक भीड़ से बचाया आैर उन्हें अस्पताल पहुंचाया। जहां इलाज के दौरान देबेन की मौत हो गर्इ। इस मामले में एक वैन और दो गाय बरामद की गई हैं।

जब्त हुए वैन पर कोई नंबर प्‍लेट नहीं पड़ा था।' पुलिस ने मामले में संज्ञान लेते हुए मॉब लिंचिंग का केस दर्ज किया है। घटना में करीब पचास लोग शामिल थे। एक पप्पू नायक नाम का व्यक्ति इन लोगों को लीड कर रहा था। बता दें कि घटना की वीडियो बनाया गया था। जिसमें चारों लोगों से दया की भीख मांग रहे थे।