महानगर में कोरोना संकट गहराता जा रहा है। अस्पतालों के 19 हेल्थ वर्कर कोरोना संक्रमित पाए गए, ऐसे में मुंबई में संक्रमित मेडिकल स्टाफ का आंकड़ा 100 हो गया है। संक्रमण को देखते हुए कई बड़े अस्पताल सील कर दिये गए हैं। कोरोना के फ्रंटलाइन मेडिकल वर्करों के बीच बढ़ते संक्रमण को देखते हुए मुंबई के प्राइवेट अस्पतालों ने तत्काल सेफ्टी किट, अतिरिक्त वेतन और ट्रांसपोर्ट मुहैया करवाने की मांग सरकार से की है। 

बता दें कि भाटिया अस्पताल के 14 कर्मियों की रिपोर्ट पॉजिटिव आने से अस्पताल को सील कर दिया गया है। मुंबई के बड़े अस्पताल जसलोक और वॉकहार्ट भी सील किये जा चुके हैं। इसके चलते अस्पतालों में सेफ्टी प्रोटोकॉल पर सवाल उठने लगे हैं। सिविक अधिकारी का कहना है कि सही प्रोटोकॉल अपनाने से कुछ हद तक संक्रमण को काबू किया जा सकता है। जहां ऐसा किया जा रहा है, वहां हालात ठीक है।

गौरतलब है कि तमाम उपायों के बावजूद महाराष्ट्र कोरोना का हॉट स्पॉट बना हुआ है। देश की आर्थिक राजधानी के कई क्षेत्रों में कोरोना का खौफ पसर गया है। मुंबई में कोरोना मरीजों की संख्या 1008 तक पहुंच गई है। राज्य में शुक्रवार को 210 नए मामले सामने आए। इसके साथ महाराष्ट्र में कोरोना मरीजों की संख्या 1,574 हो गई है। मायानगरी में बीते 24 घंटे के दौरान कोरोना ने 10 लोगों की जान ली। जिसके साथ कोरोना के चलते मुंबई में मृतकों की संख्या 64 तक पहुंच गई। पुणे, पनवेल, वसई-विरार मनपा क्षेत्र में भी एक-एक मरीज की मौत हुई। राज्य में कोरोना 110 लोगों की जान ले चुका है। शुक्रवार को उपचार के दौरान 13 लोगों की मौत हुई। दूसरी तरफ मुंबई सहित राज्य में उपचार के बाद 188 लोग स्वस्थ होकर घर लौट चुके हैं। धारावी और वर्ली क्षेत्र में कोरोना के मरीजों की संख्या लगातार बढ़ रही है।

महामुंबई में शामिल ठाणे शहर और ग्रामीण को मिला कर 31 लोग संक्रमित हैं, जिनमें से तीन की मौत हो चुकी है। नवी मुंबई में 32, कल्याण-डोंबिवली में 34, उल्हासनगर में 1, मीरा भायंदर में 21, वसई-विरार में 12 और पनवेल में 6 लोगों में संक्रमण की पुष्टि हुई है। मुंबई को शामिल कर ठाणे मंडल में 1148 लोगों में संक्रमण की पुष्टि हुई है, जिनमें से 77 लोगों की मृत्यु हो चुकी है। पुणे मनपा क्षेत्र में कोरोना के 219 तो पिंपरी-चिंचवड में 22 मरीज हैं। पुणे में 25 लोगों की मौत हुई है। एशिया की सबसे बड़ी झोपड़पट्टी धारावी में शुक्रवार को छह लोग संक्रमित पाए गए। इसके साथ ही धारावी में संक्रमितों की संख्या 28 तक पहुंच गई है। संक्रमण के जो नए मामले सामने आए हैं, उनमें से दो लोग दिल्ली के निजामुद्दीन स्थित तबलीग-ए-जमात के मरकज गए थे। धारावी में एक दर्जन से ज्यादा परिसर सील हैं। बीएमसी की ओर से धारावी में रहने वाले सभी लोगों की जांच कराने की तैयारी की जी रही है।