उत्तरपूर्वी राज्यों में इस समय भारी बारिश का कहर मचा हुआ है। यहां के लगभग सभी राज्य भयंकर बाढ़ की चपेट में आए हुए हैं। इस वजह से अकेले त्रिपुरा राज्य में भी भयंकर तबाही मची है। यहां पर भारी बारिश के चलते महज चार दिनों में 10 हजार से अधिक लोग बेघर हो गए हैं। हालांकि राज्य सरकार द्वार यहां पर रेड अलर्ट जारी किया गया हुआ है और कहा गया है कि किसी भी प्रकार की मानव हानि नहीं हो।

अकेले अगरतला शहर में 16 जुलाई को दिन के 12 के समय 165.4 एमएम बारिश रिकॉर्ड की गई जो काफी चिंता का विषय है। इस बारिश से राज्य के पांच जिले बुरी तरह प्रभावित हुए हैं। इतना ही नहीं बल्कि पश्चिमी त्रिपुरा की हालत इससे भी ज्यादा खराब हो चली है। लेकिन अब हालात और अधिक खराब हो सकते हैं क्योंकि अगले 24 घंटों के दौरान भारी बारिश की चेतावनी जारी की गई है।

भारी बारिश और बाढ़ की वजह से यहां पर 1185 परिवारों के 3934 लोग प्रभावित हुए हैं। इसके लिए पश्चिमी त्रिपुरा तथा खोवाई में 28 राहत कैंप बनाए गए है।। इसके अलावा अन्य तीन जिलों सेफाइजाला, दक्षिणी त्रिपुरा तथा गोमती में भी काफी नुकसान हुआ है। इस इलाके में पानी में डूबने से 1 व्यक्ति की मौत हो गई।

त्रिपुरा के इन हालातों पर राज्य के मुख्यमंत्री बिप्लब कुमार देब लगातार नजर बनाए हुए हैं तथा बाढ़ से राहत दिलाने वाले कार्यों का लगातार जायजा ले रहे हैं। उन्होंने सभी संबंधित ऐजेंसियों को बाढ़ से राहत पहुंचाने के काम लगने का निर्देश दिया है।