राजस्व खुफिया निदेशालय (डीआरआइ) की टीम ने रविवार शाम को सिलीगुड़ी शहर के पास लगभग 10 किलो सोने के बिस्कुट के साथ मिजोरम राज्य निवासी तीन तस्करों को गिरफ्तार किया। जब्त सोने का बाजार मूल्य तीन करोड़ 87 लाख रुपये बताया गया है।  गिरफ्तार तीनों तस्कर जोमुआन किमा (24), एच रूआलसंगपुईया (20) व लालनेलाईया (35) मिजोरम के रहनेवाले हैं।
 


डीआरआइ सूत्रों के मुताबिक, सोने के बिस्कुट को तस्करों द्वारा भारत-म्यांमार बॉर्डर से सिलीगुड़ी होते हुए कोलकाता ले जाया जा रहा था। कोलकाता में बड़ाबाजार और अन्य जगहों के स्वर्ण व्यापारियों को सोने की आपूर्ति की योजना थी। जिस चार चक्का वाहन से तस्करी की जा रही थी उसे भी जब्त कर लिया गया है। तस्करों के पास से तीन मोबाइल भी जब्त किये गये हैं।
 
खुफिया सूचना के आधार पर डीआरआइ की टीम ने रविवार शाम फुलबारी-घोषपुकुर हाइवे पर चेकिंग लगायी। ग्वालटोली मोड़ पर संदेहास्पद चार चक्का वाहन को रोककर तलाशी ली गयी। वाहन की सीट के नीचे सोने के 66 बिस्कुट मिले। प्रत्येक बिस्कुट का वजन 166 ग्राम है। इस तरह बरामद कुल सोने का वजन नौ किलो 960 ग्राम है। डीआरआइ ने वाहन में सवार तीनों तस्करों को गिरफ्तार कर लिया। सोमवार को तीनों को सिलीगुड़ी कोर्ट में पेश किया गया। अदालत ने तीनों को न्यायिक हिरासत में भेज दिया है। इस संबंध में डीआरआइ के वकील त्रिदीप साहा ने बताया कि तीनों तस्कर मिजोरम के रहनेवाले हैं।
 


जब्त किये गये सोने के बिस्कुट म्यांमार से भारत में तस्करी किये जा रहे थे। सोने के बिस्कुट को सिलीगुड़ी होते हुए कोलकाता भेजने की योजना थी। बता दें कि पिछले एक-दो सालों से सिलीगुड़ी रूट के जरिये सोने की तस्करी में भारी वृद्धि हुई है।