उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनावों (UP assembly elections) से पहले भारतीय जनता पार्टी (BJP) और जनता दल (युनाइटेड) (JDU) एक साथ चुनाव नहीं लड़ेंगे। बता दें कि बिहार में ये दोनों पार्टियां मिलकर सरकार चला रही है। वहीं भाजपा ने कहा कि इससे बिहार के रिश्ते पर कोई प्रभाव नहीं पड़ेगा। 

बता दें कि शनिवार को नीतीश कुमार (Nitish Kumar) की जदयू ने यूपी विधानसभा चुनावों के लिए पहली सूची जारी कर दी। इस लिस्ट में 26 उम्मीदवारों के नाम हैं। बता दें कि यूपी विधानसभा चुनाव (UP assembly elections) में जदयू 50 से ज्यादा सीटों पर चुनाव लड़ेगी। इधर, भाजपा के बिहार प्रदेश अध्यक्ष संजय जायसवाल (Sanjay Jaiswal) ने कहा कि हमारा गठबंधन उत्तर प्रदेश में कभी नहीं था। हमारा गठबंधन केवल बिहार के लिए है। जायसवाल ने कहा कि हमारा गठबंधन बिहार में है और मजबूत है। यूपी का असर यहां गठबंधन पर पडऩे से इंकार करते हुए जायसवाल ने कहा, ऐसा नहीं होने वाला।

एक संवाददाता सम्मेलन में जदयू के अध्यक्ष ललन सिंह (JDU President Lalan Singh) ने अफसोस जताया कि उनकी पार्टी उत्तर प्रदेश में अधिक ताकत के साथ और अधिक सीटों पर चुनाव लड़ती, यदि पार्टी ने इतने लंबे समय तक इंतजार नहीं किया होता। केंद्रीय मंत्री आरसीपी सिंह (RCP Singh) ने शुरू में बताया था कि भाजपा गठबंधन के लिए राजी है। ललन सिंह द्वारा जारी उत्तर प्रदेश की सीटों की सूची में रोहनिया भी शामिल है, जो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Modi) के प्रतिनिधित्व वाली वाराणसी लोकसभा सीट में आती है। हालांकि, जदयू अध्यक्ष ने जोर देकर कहा कि उनकी पार्टी के स्वतंत्र रूप से चुनाव लडऩे के फैसले का बिहार में भाजपा के साथ उसके संबंधों पर कोई प्रभाव नहीं पड़ेगा।