वानखेड़े स्टेडियम में चेन्नई सुपर किंग्स ने रविंद्र जडेजा और सैम करन की तूफानी बल्लेबाजी के चलते दिल्ली कैपिटल्स को 189 रनों का लक्ष्य दिया है। जडेजा और करन ने मुश्किल वक्त में शानदार बल्लेबाजी करते हुए चेन्नई को इस मुकाम तक पहुंचाया। जडेजा ने 17 गेंदों पर 26 और सैन करन ने 15 गेंदों पर 34 रनों की बेहतरीन बल्लेबाजी की। इससे पहले सुरेश रैना ने शुरुआती दो झटकों के बाद 54 रनों की बेहतरीन पारी खेल टीम को मजबूत आधार दिया। हालांकि कप्तान धोनी इस मैच में अपना खाता भी नहीं खोल सके। 

इससे पहले दिल्ली ने गेंदबाजों ने शुरुआती ओवर्स में शानदार गेंदबाजी का प्रदर्शन कर चेन्नई के सलामी बल्लेबाजों को सस्ते में पवेलियन लौटा दिया। सलामी बल्लेबाज फाफ डू प्लेसिस अपना खाता भी नहीं खोल पाए। वहीं रितुराज महज 5 रनों के स्कोर पर चलते बने। हालांकि मोइन अली ने बेहतरीन शॉट खेले, लेकिन वो भी अश्विन की फिरकी को समझ नहीं पाए और पवेलियन लौट गए। मोइल अली ने 24 गेंदों पर 36 रनों की बेहतरीन पारी खेली, जिसमें 4 चौके और 2 छक्के शामिल थे। 

बता दें कि  बीता सीजन दोनों टीमों के लिए बिल्कुल विपरीत परिणाम वाला रहा था। सुपर किंग्स जहां आईपीएल इतिहास में पहली बार प्लेऑफ तक नहीं खेल पाए थे, वहीं दिल्ली की टीम ने शानदार प्रदर्शन करते हुए फाइनल तक के सफर तय किया था। यह अलग बात है कि उसे अपने पहले फाइनल में हार मिली थी। हमेशा की तरह इस सीजन में चेन्नई की कमान करिश्माई कप्तान महेंद्र सिंह धोनी के हाथो में है जबकि दिल्ली की कमान ऋषभ पंत के हाथों में है। पंत पहली बार टीम की कमान संभाल रहे हैं, क्योंकि नियमित कप्तान श्रेयस अय्यर चोटिल हैं और पूरे सीजन के लिए बाहर हो चुके हैं।

धोनी ने कहा कि वह टॉस जीतकर पहले गेंदबाजी का फैसला करते क्योंकि इस ग्राउंड में लक्ष्य को डिफेंड करना थोड़ा मुश्किल है। अपने पिच रिपोर्ट में माइकल स्लेटर ने कहा कि पिच पर घास का कवर जरूर है, लेकिन यह बस दिखावे के लिए है। इस पिच पर बहुत सारे रन बनने जा रहे हैं। हालांकि उन्होंने यह नहीं बताया कि इस पिच पर कितना स्कोर एक सुरक्षित स्कोर होगा, लेकिन दोनों टीमों में कुछ बड़े पिंच हिटर्स और बॉउंड्री की लंबाई कम होने के कारण यह एक हाई-स्कोरिंग मैच हो सकता है।

दिल्ली की टीम ने टॉम करेन और एक इंग्ल?