राजधानी में कोरोना वायरस को मात देने वालों की संख्या में लगातार ग्यारहवें दिन इजाफा हुआ और वायरस को मात देने वालों का कुल आंकड़ा एक लाख को पार कर गया। आज लगातार ग्यारहवें दिन नये मामल़ों की तुलना में स्वस्थ होने वालों की संख्या अधिक रही। हालांकि निषिद्ध क्षेत्रों की संख्या दस बढ़कर 668 से 678 हो गई। दिल्ली स्वास्थ्य मंत्रालय के पिछले 24 घंटों के आंकड़ों के अनुसार नये मामले कल के 1462 की तुलना में मामूली बढ़कर 1475 हो गए जबकि 1973 ने वायरस को शिकस्त दी। 

केंद्रीय गृहमंत्री के 15 जून को दिल्ली की स्थिति काबू से बाहर होने पर कमान संभालने और तबाड़तोड़ कदम उठाने के बाद राजधानी में वायरस काबू करने में बड़ी सफलता मिली। दिल्ली में कुल संक्रमितों का आंकडा हालांकि एक लाख 21 हजार 582 पर पहुंच गया जबकि इसमें से स्वस्थ होने वालों की संख्या एक लाख को पार कर एक लाख एक हजार 274 अर्थात 83.29 प्रतिशत पर पहुंच गई है। नौ जुलाई को रिकार्ड 4027 मरीज ठीक हुए थे। 

पिछले 24 घंटों में 26 और लोगों की मौत के साथ ही मृतकों की कुल संख्या 3597 पर पहुंच गयी। सात जुलाई को नये मामले घटकर 1379 रहे थे। इससे पहले दिल्ली में 23 जून को 3947 एक दिन के सर्वाधिक मामले आए थे। महाराष्ट्र और तमिलनाडु के बाद दिल्ली तीसरा राज्य है जहां संक्रमितों का आंकड़ा एक लाख से अधिक है। महाराष्ट्र में वायरस का आंकड़ा करीब तीन लाख है। दिल्ली में सक्रिय मामल़ों की संख्या भी कल के 17235 से घटकर 16711 रह गई। 

कोरोना जांच में पिछले कुछ दिनों में आई तेजी से कुल जांच का आंकड़ा 7,98,783 पर पहुंच गया। पिछले 24 घंटों में दिल्ली में 21658 जांच की गई। इसमें आरटीपीसीआर जांच 6246 और रैपिड एंटीजेन जांच 15412 थी। दिल्ली में 10 लाख की जनसंख्या पर जांच का औसत 40 हजार को पार कर 42041 हो गया है। दिल्ली सरकार के कुल कोरोना बेड की संख्या 15475 हैं जिसमें से 3635 पर मरीज हैं जबकि 11840 खाली हैं। होम आइशोलेशन में मरीजों की संख्या भी गत दिवस के 9595 संक्रमितों से घटकर 9136 रह गई।