राजस्थान के अलवर जिले में कोरोना वायरस संक्रमित 55 रोगियों में से 43 मरीज रोग मुक्त एवं स्वस्थ होने पर अस्पताल से छुट्टी दे दी गई है। आधिकारिक सूत्रों ने आज यहां बताया कि संक्रमित एक बुजुर्ग व्यक्ति एवं महिला की करीब एक महीने पहले जयपुर के एसएमएस अस्पताल में मौत हो चुकी है। 

वर्तमान में अलवर जिला मुख्यालय पर स्थापित कोविड-19 डेडिकेटेड हॉस्पिटल में नौ रोगी उपचाराधीन हैं, जबकि ग्राम पंचायत सावड़ी के गांव अल्लाह पुर की पहाड़ी निवासी संक्रमित महिला (50) को उपचारार्थ होम क्वारंटीन किया गया है। इधर कोरोना वायरस के संदिग्ध रोगियों की जांच रिपोर्ट मिलने में हो रही देर जिला प्रशासन के लिए मुसीबत गई है। 

संदिग्ध रोगियों के संकलित नेजल एस्पिरेट एवं स्वाब टेस्ट की कई कई दिनों तक रिपोर्ट नहीं मिलना अच्छे संकेत नहीं हैं। जयपुर से जांच रिपोर्ट मिलने में देरी का आलम यह है कि अब तक करीब 800 रिपोर्ट आने का अलवर को इंतजार है। जांच संबंधी लंबित मामले लगातार बढ़ रहे हैं। अलवर सीएमएचओ और पीएमओ इस मामले में उदासीन बने हुए हैं। जांच रिपोर्ट आने में देरी घातक है। इससे संदिग्ध व्यक्तियों की संक्रमित (पॉजिटिव) के रूप में पुष्टि एवं पहचान और उनके उपचार शुरू कराने में हुई देरी कहीं बड़ी समस्या को जन्म न दे।