मुख्यमंत्री कमलनाथ के इस्तीफा देने के बाद अब बीजेपीसरकार बनाने का दावा पेश करेगी। हालांकि बीजेपीखेमे में अभी मंथन चल रहा है कि कब सरकार बनाने का दावा पेश किया जाए। दावे से पहले बीजेपीविधायक दल की बैठक होगी, जिसमें मुख्यमंत्री का चेहरा तय होगा। हालांकि शिवराज सिंह चौहान को विधायक दल का नया नेता चुना जाना तय माना जा रहा है।

कांग्रेस के सभी 22 बागियों के इस्तीफे स्वीकार होने के बाद संख्या बल में बीजेपी सबसे बड़ी पार्टी बन गई है।उसके 106 विधायक हैं. वहीं, कांग्रेस के पास स्पीकर समेत सिर्फ 92 विधायक रह गए हैं। कांग्रेस के पास निर्दलीय और बसपा-सपा के 7 विधायकों का भी समर्थन है। वहीं एमपी में सरकार बनाने के लिए बहुमत का आंकड़ा 103 है।

बता दें कि सीएम कमलनाथ ने बीजेपी पर लोकतांत्रिक मूल्यों की हत्या करने का आरोप लगाया है, उन्होंने कहा कि एक तथाकथित महाराज जिन्हें जनता नकार चुकी है और 22 लोभियों ने मिलकर बीजेपी के साथ खेल रच लोकतांत्रिक मूल्यों की हत्या की।

बीते शुक्रवार को प्रेस कांफ्रेंस करने के तुरंत बाद कमलनाथ ने राजभवन पहुंचकर राज्यपाल को इस्तीफा सौंप दिया। इससे पहले कमलनाथ ने कहा, दिसंबर 2018 को पिछली विधानसभा का परिणाम आया, स्पष्ठ था कि कांग्रेस ने ज्यादा सीट हासिल की थी। 17 दिसंबर को मैने मुख्यमंत्री पद की शपथ ली थी और 25 दिसंबर को मंत्रिमंडल का गठन किया गया। मुख्यमंत्री ने कहा आज 20 मार्च है पिछले 15 महीनों में मेरा प्रयास रहा कि हम प्रदेश को नई दिशा दें. इस्तीफा देने के पहले कमलनाथ ने अपनी सरकार की उपलब्धियों को सामने रखा। इसमें मुख्य रुप से किसान कर्ज माफी, युवा रोजगार, प्रदेश में निवेश का वातावरण तैयार करने और सस्ती बिजली जैसे बातें मुख्य थीं।