सांगली। महाराष्ट्र के सांगली जिले में मिराज तहसील के म्हैशल गांव में दो भाइयों के परिवार के नौ सदस्यों ने सोमवार सुबह जहरीली दवा पीकर घर में सामूहिक आत्महत्या कर ली। मिराज ग्रामीण पुलिस के अनुसार मृतक माणिक यल्लप्पा वनमोरे म्हैशल गांव के पशु चिकित्सक थे लेकिन वे अस्पताल नहीं पहुंचे तो उनके अस्पताल के कर्मचारी और पड़ोसी गांव के लोग उनके परिवार के सदस्यों से संपर्क करने की कोशिश की। 

यह भी पढ़े : थाना प्रभारी सहित नगांव में बाढ़ में बहे दो पुलिसकर्मी, एक की मौत

उनके परिवार वालों से भी जब संपर्क नहीं हुआ तो अस्पताल के कर्मचारी और अन्य लोग अंबिका नगर इलाके में उनके घर गये, जहां डॉक्टर वनमोरे और उनके भाई पोपट वनमोर (शिक्षक) के परिवार के सभी सदस्य मृत पाए गए। सभी ने जहरीली दवा पीकर सामूहिक आत्महत्या कर ली थी। सूचना मिलने के बाद, मिराज ग्रामीण पुलिस टीम मौके पर पहुंची और जांच शुरू कर दी लेकिन पुलिस को इस तरह की सामूहिक आत्महत्या की घटना के पीछे का कारण नहीं मिला। 

यह भी पढ़े : अग्निपथ योजना पर "फर्जी खबर" फैलाने के लिए केंद्र ने 35 व्हाट्सएप ग्रुप पर प्रतिबंध लगाया

पुलिस ने मृतक की पहचान डॉक्टर माणिक यालप्पा वनमोरे 49, उनकी माँ अक्काताई 72, रेखा 45 (पत्नी), अस्मिता 28 (बेटी), आदित्य 15 (पुत्र) तथा डॉक्टर माणिक के भाई पोपट यल्लप्पा वनमोरे 52, अर्चना 30( बेटी), संगीता 48 (पत्नी), शुभम 28 (पुत्र) के रूप में की है। सामूहिक आत्महत्या की खबर फैलाने के बाद, गांव और आसपास के क्षेत्र के लोग बड़ी संख्या में डॉक्टर वनमोरे और उनके भाई के घर के सामने जमा हो गये।