दक्षिणी तमिलनाडु (Southern Tamil Nadu) के थेनी में आठ दलित परिवारों के चालीस लोगों ने इस्लाम कबूल (Eight Dalit families convert to Islam) कर लिया है। थेनी जिले के बोदिनायकनूर शहर के डोंबिचेरी गांव (Dombicherry Village) में कुछ दिन पहले धर्मांतरण हुआ और इस्लामिक पुजारियों ने धर्मांतरण को अंजाम दिया। संयोग से यह बोदिनायकनूर तमिलनाडु के पूर्व मुख्यमंत्री और अन्नाद्रमुक के वरिष्ठ नेता ओ पनीरसेल्वम (o panneerselvam) का निर्वाचन क्षेत्र है।

धर्मांतरित लोगों ने कहा कि उन पर ऊंची जाति के हिंदुओं द्वारा लगातार हमला किया गया था, जो उन्हें निचली जाति  का होने के चलते रेस्तरां और रास्ते में चाय की दुकानों से चाय या कॉफी पीने की अनुमति नहीं देते थे। नव धर्मान्तरित (convert to Islam in TN ) लोगों का आरोप है कि पुरुषों को पीटा जाता था, लड़कियों को छेड़ा जाता था और सडक़ों पर चलते समय उन पर भद्दे कमेंट्स और इशारे किए जाते थे। रहीमा (32) जो पहले वीरलक्ष्मी थीं, ने  कहा कि में धर्मांतरण के लिए मजबूर किया जाता है। हमें छेड़ा जा रहा है, पीटा जा रहा है, अपमानित किया जा रहा है और उसी गली में नहीं चलने दिया जा रहा है जहां सवर्ण हिंदू चलते हैं। हमारे माता-पिता और दादा-दादी को इस अपमान का सामना करना पड़ा और हमने फैसला किया कि बहुत हो गया। अब हम मुसलमान हैं।

धर्मांतरित लोगों (convert to Islam in TN ) ने आरोप लगाया कि उच्च जाति के हिंदू उन पर नियमित रूप से हमला करते हैं और हर छह महीने में एक बार डोंबुचेरी गांव में दलितों के खिलाफ हिंसा की कोई न कोई घटना सामने आती है। रहीमा के पति मोहम्मद इस्माइल, जो पहले कलाइकनन थे, ने कहा कि नवंबर 2021 में दीपावली समारोह के दौरान ऊंची जाति के पुरुषों द्वारा उनकी पिटाई की गई थी और उन्होंने घटना के बाद इस्लाम में परिवर्तित होने का फैसला किया। उन्होंने कहा कि ऊंची जाति के लोगों ने मोटरसाइकिल खरीदने पर उन्हें बेरहमी से पीटा और कहा कि तमिलनाडु के गांवों में दलित दुख की जिंदगी जी रहे हैं।