नागालैंड में एक बार फिर से नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) का विरोध शुरू हो गया है। इसको खत्म करने की मांग को लेकर नगा स्टूडेंट्स फेडरेशन (एनएसएफ) ने बुधवार को कोहिमा में धरना दिया। एनएसएफ, जो नॉर्थ ईस्ट स्टूडेंट्स ऑर्गनाइजेशन का एक हिस्सा है, ने पूरे क्षेत्र के लिए इनर लाइन परमिट और अफ्सपा को रद्द करने की भी मांग की। एनएसएफ के अध्यक्ष केगवेहुन टेप ने संवाददाताओं से कहा, लगभग सभी पूर्वोत्तर राज्यों पर बाहरी लोगों का कब्जा है और क्षेत्र के लोग किसी भी विदेशी को अपनी जमीन पर आने और रहने की इजाजत नहीं दे सकते।

यह भी पढ़े : Janmashtami 2022 Date: जन्माष्टमी 2022 का दिन इन राशियों के लिए है बेहद शुभ, जानिए मथुरा में कब मनाई जाएगी जन्माष्टमी? 

उन्होंने कहा कि पूरे क्षेत्र में नागरिकता (संशोधन) विधेयक के विरोध के बावजूद, केंद्र ने लोगों की मांगों पर कोई ध्यान नहीं दिया और दिसंबर 2019 में इसे संसद में पारित कर दिया। एनईएसओ और एनएसएफ यह सुनिश्चित करना जारी रखेंगे कि सीएए क्षेत्र में लागू नहीं हो। टेप ने कहा, पूर्वोत्तर के स्वदेशी लोगों की रक्षा के लिए केंद्र से एनआरसी को अपडेट करने का आग्रह किया। उन्होंने कहा कि संगठन 4 दिसंबर के ओटिंग हत्याकांड के पीड़ितों को जल्द से जल्द न्याय दिलाने के लिए पूरे क्षेत्र से सशस्त्र बल विशेष अधिकार अधिनियम (अफस्पा) को निरस्त करने की भी मांग कर रहा है।

यह भी पढ़े : राशिफल 17 अगस्त: इन राशि वालों के लिए आज का दिन बहुत भारी, ये लोग काली वस्‍तु का दान करें

टेप ने कहा कि नागालैंड में केवल एक केंद्रीय विश्वविद्यालय है, लेकिन पाठ्यक्रमों की संख्या बहुत कम है और एनएसएफ की मांग है कि अधिक पाठ्यक्रमों की पेशकश की जानी चाहिए। उन्होंने कहा, "हम मांग करते हैं कि केंद्र एक विशेष रोजगार क्षेत्र बनाए, विशेष रूप से केंद्र सरकार के कार्यालयों में ग्रेड III और IV पदों पर।" उन्होंने कहा कि एनएसएफ लोगों के लाभ के लिए क्षेत्र के लिए एक अलग समय क्षेत्र की भी मांग करता है। एनईएसओ सदस्य संगठनों द्वारा सभी पूर्वोत्तर राज्यों में विरोध प्रदर्शन किए गए।