पूर्वोत्तर राज्य नागालैंड में पिछले मॉनसून में बहुत कम बारिश हुई है। इस वजह से से नागालैंड राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (NSDMA) ने पूरे राज्य में छह महीने के लिए यानी सितंबर 2021 से इस साल मार्च तक ‘मध्यम प्रकृति के सूखे’ (moderate drought affected state) की घोषणा की है।

राज्य सूचना एवं जनसंपर्क विभाग द्वारा मंगलवार को एक आधिकारिक बयान जारी कर बताया गया कि एनएसडीएमए ने बारिश की कमी और फसलों की खराब स्थिति को ध्यान में रखते हुए ‘मध्यम प्रकृति के सूखे’ की घोषणा की है।

अधिकारी के बयान के मुताबिक एनएसडीएमए ने भूमि सत्यापन के जरिये संकट की उस स्थिति पर भी विचार किया, जो इन परिस्थितियों से प्रभावित लगभग पूरे कृषि क्षेत्र में विकसित हुई थी।

बयान के अनुसार, एनएसडीएमए ने संबंधित जिला आपदा प्रबंधन प्राधिकरणों (डीडीएमए) के अध्यक्षों और उपायुक्तों द्वारा उपलब्ध कराई गई रिपोर्ट पर भी गौर किया गया है।

साथ ही इसमें कहा गया है कि मार्च से नवंबर 2021 तक दर्ज की गई सामान्य से बेहद कम वर्षा के आधार पर सूखे की घोषणा 15 सितंबर 2021 से लागू होगी और अगले आदेश तक राज्य में छह महीने प्रभावी रहेगी।