नागालैंड भाजपा के अध्यक्ष और उच्च-तकनीकी शिक्षा मंत्री तेमजेन इम्ना अलोंग ने कहा कि हर कोई जानता है कि एक अलग नगा झंडा और संविधान प्राप्त नहीं किया जा सकता है। विधानसभा में नगा राजनीतिक मुद्दे पर चर्चा में भाग लेते हुए अलॉन्ग ने कहा कि एक बैठक के दौरान जहां मुख्यमंत्री नेफ्यू रियो भी मौजूद थे। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने स्पष्ट रूप से कहा था कि अलग झंडा और संविधान कभी नहीं दिया जा सकता है। 

ये भी पढ़ेंः अब नागालैंड में खेल गई क्चछ्वक्क, राज्यसभा में भेजी पहली महिला सांसद फांगनोन कोन्याक


वहीं एनएससीएन (आईएम) के अध्यक्ष क्यू तुक्कू ने कहा कि एक अलग नागा ध्वज और संविधान के बिना नगा मुद्दे का कोई समाधान नहीं हो सकता है। भाजपा नेता ने कहा, आज, हमारे लोग सच बोलने से डरते हैं और टकराव से बचने के लिए एक या दूसरे समूह को खुश करने की आवश्यकता के कारण नागरिक समाज विभाजित है। उन्होंने बातचीत की मेज पर समझौता करने पर जोर दिया।

ये भी पढ़ेंः नागालैंड का बिजली विभाग 2025 के लिए बना रहा स्मार्ट मीटर, ये होगी इनकी खासियत


उन्होंने कहा कि भारत सरकार संविधान के तहत होने के कारण कभी भी ऐसी किसी भी चीज के लिए सहमत नहीं हो सकती जो संविधान के दायरे से बाहर हो। साथ ही यह भी कहा कि विधानसभा के 60 निर्वाचित सदस्य समग्र रूप से नागालैंड के सभी लोगों के लक्ष्यों और आकांक्षाओं का प्रतिनिधित्व करते हैं और उनकी भूमिका सूत्रधार के रूप में महत्वपूर्ण है। उन्होंने नागा राजनीतिक मुद्दे को सुलझाने के लिए एक समझ बनाने की आवश्यकता पर जोर दिया ताकि लोग शांति और समृद्धि में रह सकें और सुशासन देख सकें।