कोहिमा। नागालैंड में 2021 में गठित राजनीतिक दल राइजिंग पीपुल्स पार्टी (आरपीपी) ने शुक्रवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से राज्य में राष्ट्रपति शासन लागू करने का आग्रह किया। पार्टी ने आरोप लगाया कि कई मापदंडों पर राज्य का प्रदर्शन सबसे खराब रहा है। 

यह भी पढ़ें- मुस्लिम के नेता अजमल ​का हिदुओं पर विवादित बयान, 'नाजायज पत्नियां रखते हैं, 40 साल बाद नहीं कर सकते बच्चे पैदा

मोदी को भेजे एक आवेदन में, आरपीपी अध्यक्ष जोएल नागा और इसके उपाध्यक्ष विठो जाओ ने कहा कि राज्य के विभिन्न हिस्सों के 3,446 लोगों ने नगालैंड में राष्ट्रपति शासन के पक्ष में एक हस्ताक्षर अभियान में भाग लिया। पार्टी ने कहा कि राज्य “प्रणालीगत भ्रष्टाचार, राजकोषीय कुप्रबंधन, कुशासन, विकास में कमी और सार्वजनिक धन के दुरुपयोग” का गवाह रहा है। 

यह भी पढ़ें- जापान में निर्दिष्ट कुशल श्रमिकों के रूप में काम करने के लिए 9 नर्सों का चयन किया गया

पार्टी के दोनों नेताओं ने दावा किया, “2021 में नीति आयोग के सीडीजीआई सूचकांक के अनुसार, नगालैंड छह मापदंडों (गरीबी, स्वास्थ्य, सस्ती ऊर्जा, टिकाऊ शहर, उद्योग और बुनियादी ढांचा) के तहत सबसे खराब प्रदर्शन करने वाला राज्य रहा है।”