उत्तर प्रदेश में स्वास्थ्य विभाग की बाहर से आने वाले लोगों पर पैनी नजर बनी हुई है। खासतौर से मुम्बई से आने वाले लोगों पर खास ध्यान दिया जा रहा है। सोमवार देर रात मुम्बई, नागालैंड व राजस्थान से आए करीब 19 लोगों को जैन इंटर कालेज में बने शेल्टर होम में क्वारंटाइन किया गया। मंगलवार को स्वास्थ्य विभाग की टीम ने सभी लोगों की थर्मल स्क्रीनिंग कराई और उन्हें अहतियात बरतने की सलाह दी। जल्द ही सभी लोगों को कोरोना की जांच भी कराई जाएगी।


बतादें कि इस समय मुम्बई में सबसे अधिक कोरोना के मामले सामने आ रहे हैं। ऐसे में मुम्बई से आने वाले लोगों को स्वास्थ्य विभाग विशेष रूप से नजर बनाए हुए हैं। वहां से आने वाले लोगों को घर न भेजकर सीधा 14 दिन के लिए क्वारंटाइन कराया जा रहा है। ताकि अगर उनमें कोरोना के लक्षण हुए तो बाकी लोगों से उनको बचाया जा सके। सर्वे कर रही टीम भी बाहर से आने वाले लोगों की सर्च कर रही है। साथ ही हर घर में जाकर वहां मिल रहे सदस्यों की ट्रेवल हिस्ट्री भी चैक कर रही है। सोमवार देर रात महाराष्ट्र से पोहल्ली गांव के पांच लोग आए।


इसके अलावा एक युवक नागालैंड से भी आया हुआ मिला। चार लोग पहले ही महाराष्ट्र से आए हुए थे। स्वास्थ्य विभाग की टीम ने कुल 19 लोगों को शेल्टर होम में क्वारंटाइन किया है। मंगलवार को स्वास्थ्य विभाग की टीम ने शेल्टर होम में पहुंचकर सभी लोगों की थर्मल स्क्रीनिंग की। किसी को बुखार, खांसी, जुखाम तो नहीं इस बारे में जानकारी की। सभी लोग फिलहाल स्वस्थय थे, किसी को कोई परेशानी नहीं थी। चिकित्सकों ने सभी को अहतियात बरतने की सलाह दी।