1/3 गोरखा राइफल्स के हवलदार व देहरादून के अनारवाला निवासी प्रदीप थापा शहीद हो गए हैं। वर्तमान में वह नागालैंड में तैनात थे। शुक्रवार सुबह को ड्यूटी के दौरान वह शहीद हो गए हैं। इसकी सूचना उनके परिवार को देर शाम को मिली। बेटे की शहादत की खबर मिलते ही परिवार में कोहराम मच गया।

हवलदार प्रदीप का पार्थिव शरीर शनिवार को उनके पैतृक आवास पहुंच सकता है। पूर्व मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत और सैनिक कल्याण मंत्री गणेश जोशी ने भी ट्विट कर जवान की शहादत पर दुख जताया है। उन्होंने शोक संतृप्त परिवार को दुख की इस घड़ी में धैर्य बनाए रखने की ईश्वर से प्रार्थना की।

गोरखा राइफल में तैनात 39 वर्षीय हवलदार प्रदीप थापा 19 साल पहले सेना में भर्ती हुए थे। वह अपने पीछे पत्नी सुजाता थापा के साथ दो बेटियां व एक बेटा छोड़ गए। उनकी बड़ी बेटी 12 साल की है, जबकि दूसरी बेटी दस साल की। बेटा एक साल का है। बताया जा रहा है कि कुछ माह पहले ही वह छुट्टी पर घर आए हुए थे।