कोरोना संक्रमण के चलते देश में लॉकडाउन के बीच पूर्वोत्तर राज्य नागालैंड ने बड़ा कदम उठाया है। लॉकडाउन के चलते राजस्व में आई कमी की पूर्ति के लिए राज्य सरकार ने पेट्रोलियम उत्पादों पर उपकर लगाने का फैसला किया है। अब वहां पेट्रोल 6 रुपये प्रति लीटर और डीजल 5 रुपये प्रति लीटर महंगा हो गया है। इसके लिए प्रदेश सरकार की ओर से अधिसूचना जारी की गई थी। 

बता दें कि असम के बाद नागालैंड ऐसा करने वाला दूसरा राज्य है। आठ अप्रैल को असम सरकार ने पेट्रोल और डीजल पर वैट बढ़ा दिया था, जिसके बाद वहां इसकी कीमत में तेजी आई। असम में पेट्रोल की कीमतें 5.85 रुपये और डीजल में लगभग 5.43 रुपये प्रति लीटर की बढ़ोतरी हो गई। अब असम में पेट्रोल 71.61 रुपये से बढ़कर 77.46 रुपये और डीजल 65.07 रुपये से बढ़कर 70.50 रुपये प्रति लीटर हो गया है।

आईओसीएल की वेबसाइट के अनुसार, आज दिल्ली, कोलकाता मुंबई और चेन्नई में एक लीटर पेट्रोल की कीमत क्रमश: 69.59, 73.30, 76.31 और 72.28 रुपये है। डीजल की बात करें, तो दिल्ली, कोलकाता मुंबई और चेन्नई में इसका दाम क्रमश: 62.29, 65.62, 66.21 और 65.71 रुपये है। बता दें कि भारत का मार्च माह का कच्चा इस्पात उत्पादन, पिछले महीने की तुलना में 23 फीसदी घटकर 73.8 लाख टन रह गया जबकि कोविड-19 के प्रकोप और उसकी वजह से लॉकडाउन के कारण निर्यात और आयात भी प्रभावित हुआ।  इस्पात मंत्रालय ने कहा कि कोरोना वायरस के फैलने का असर देश में इस्पात की खपत पर भी पड़ा है, जो माह दर माह मार्च में 6.6 फीसदी घटकर 5.80 लाख टन रह गई। इस वर्ष फरवरी में कच्चा इस्पात उत्पादन 95.6 लाख टन था। उसके मुकबाले यह मार्च में 22.7 फीसदी घट कर 73.8 लाख टन रहा। इसी दौरान तैयार इस्पात का निर्यात 20.5 फीसदी घट कर 4.53 लाख टन और आयात 26.9 फीसदी गिर कर 2.93 लाख टन रहा।