नागालैंड के जुन्हेबोटो जिला के घटाशी तहसील में एक बच्ची खुद अपना चेकअप करवाने हेल्थ सेंटर में पहुंची। खबर के अनुसार, पिछली रात से लिपवी को सर्दी-जुकाम के सामान्य लक्षण थे। क्योंकि उसके माता-पिता खेत में काम करने जा चुके थे इसलिए उसने खुद ही हेल्थ एंड वेलनेस सेंटर में चेकअप के लिए जाने का फैसला किया। नन्ही लिपवी मास्क लगाकर हेल्थ सेंटर पहुंची। जहां उसे कम्यूनिटी हेल्थ ऑफिसर (CHO) ने देखा। अब बच्ची की डॉक्टर के साथ वाली तस्वीर इंटरनेट पर छा चुकी है। जहां कई लोग बच्ची को जिम्मेदार और बहादुर बता रहे हैं, वहीं कुछ हैरान हैं।

यह तस्वीर ट्विटर यूजर @YepthomiBen ने शेयर की। उन्होंने कैप्शन में बताया, ‘जब मेडिकल स्टाफ ने 3 साल की लिपवी (Lipavi) को हेल्थ सेंटर में देखा तो उनके चेहरे पर मुस्कान आ गई। कथित तौर पर बच्ची को सर्दी-जुकाम के लक्षण थे, लेकिन उसके माता-पिता काम के लिए धान के खेत में जा चुके थे। ऐसे में नन्ही लिपवी ने खुद ही स्वास्थ्य केंद्र जाकर अपना चेकअप कराने फैसला किया।’ इस ट्वीट को न्यूज लिखे जाने तक 5 हजार से अधिक लाइक्स और 1 हजार रीट्वीट मिल चुके हैं।

उन्होंने अपने दूसरे ट्वीट में लिखा, ‘जहां बहुत से वयस्क अपना टेस्ट करवाने और टीका लगवाने से कतरा रहे हैं, वहीं नन्ही लिपवी अपनी मासूमियत से हम सबको आगे का रास्ता दिखा रही है। जिम्मेदार होना समय की मांग है। मैं आशा और प्रार्थना करता हूं कि नन्ही लिपवी स्वास्थ्य रहें!’