नागालैंड इन-सर्विस डॉक्टर्स एसोसिएशन यानि NIDA की 3 दिवसीय सामूहिक आकस्मिक हड़ताल समाप्त हो गई है। तीन दिवसीय विरोध प्रदर्शन के दौरान राज्य भर के सरकारी अस्पतालों और स्वास्थ्य केंद्रों की ओपीडी बंद रही। हालांकि आपातकालीन सेवाएं चालू रहीं।

यह भी पढ़ें : लद्दाख से अरुणाचल तक घुसपैठ करने की कोशिश में लगा चीन, हाई अलर्ट पर हुई सेना और ITBP

नगालैंड सरकार द्वारा एक साल के भीतर उनकी मांग का समाधान करने का आश्वासन समाप्त होने के बाद सेवानिवृत डॉक्टरों ने अपनी सेवानिवृत्ति की उम्र 60 से बढ़ाकर 62 साल करने की मांग को लेकर 18 अप्रैल को धरना शुरू किया। राज्य सरकार की कैबिनेट गुरुवार को इस मामले पर चर्चा के लिए बैठक कर रही है।

यह भी पढ़ें : बढ़ते कोरोना मामलों पर मिजोरम को केंद्र ने किया अलर्ट, आ चुके हैं इतने सारे केस

इसके अलावा केंद्र सरकार ने नागालैंड के विद्रोही संगठनों के साथ संघर्ष विराम की अवधि एक वर्ष के लिए बढ़ा दी है। गृह मंत्रालय ने एक वक्तव्य जारी कर कहा कि केंद्र सरकार और नेशनल सोशलिस्ट काउंसिल ऑफ नागालैंड खापलांग (एनएससीएनएनके), नेशनल सोशलिस्ट काउंसिल ऑफ नागालैंड रिफॉर्मेशन (एनएससीएनआर) तथा नेशनल सोशलिस्ट काउंसिल ऑफ नागालैंड खांगों (एनएससीएन खांगो) के साथ संघर्ष विराम समझौता लागू है।