नागालैंड में यिमखिउंग ट्राइबल काउंसिल (YTC) ने शेमेटोर जिले की मांग को लेकर अपने पहले चरण के आंदोलन को अगली सूचना तक अस्थायी रूप से स्थगित कर दिया है। YTC के कार्यकारी अध्यक्ष वाई मेकज़ो (Y Makezho ) ने यह भी कहा कि लिकिमरो हाइड्रोइलेक्ट्रिक पावर प्लांट के संचालन को फिर से शुरू करना है।

उन्होंने (Y Makezho) कहा कि माउंट सरमती, फाकिम वन्यजीव अभयारण्य, सलोमी और मिमी में पत्थर की गुफाओं में आगंतुकों या शोधकर्ताओं के प्रवेश की अनुमति होगी। हालांकि, परिषद ने चेतावनी दी कि अगर राज्य सरकार जल्द से जल्द आश्वासन को पूरा करने में विफल रहती है तो वह न्याय मिलने तक अपना लोकतांत्रिक आंदोलन फिर से शुरू करेगी।
जानकारी दे दें कि शेमेटोर (Shamator) वर्तमान में नागालैंड के त्युएनसांग जिले के अंतर्गत आता है। परिषद ने पहले कहा था कि उसने 2003 से शमतोर के अतिरिक्त उपायुक्त मुख्यालय को एक जिले के रूप में अपग्रेड करने की मांग की थी। इसने कहा कि उसने राज्य सरकार को कई अभ्यावेदन और अनुस्मारक पत्र सौंपे हैं।

पिछले साल 2021 के 18 दिसंबर को, नागालैंड सरकार ने तीन और जिले बनाए, जिससे राज्य में कुल जिलों की संख्या 15 हो गई। नव निर्मित जिले त्सेमिन्यु, निउलैंड और चुमुकेदिमा हैं। जबकि त्सेमिन्यु जिले कोहिमा जिले को विभाजित करके बनाया गया था, निउलैंड और चुमुकेदिमा जिले दीमापुर जिले से बने थे।