कोहिमा। केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा है कि नागालैंड में देश का जैविक केंद्र बनने की क्षमता है। राज्य में अपनी उपज को देश के बाहर निर्यात करने की भी क्षमता है और केंद्र सरकार इस संबंध में राज्य सरकार की मदद के लिए तैयार है। सोमवार शाम यहां एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए तोमर ने कहा, नागालैंड की जरूरत न केवल नागाओं की बल्कि पूरे देश की है और जब वे पूरी होंगी तो देश की जरूरतें पूरी होंगी।

ये भी पढ़ेंः कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी के निजी सचिव पर दलित महिला के साथ रेप का केस दर्ज


आज हमारे समाज में असमानता और आय का असंतुलन प्रमुख समस्याओं में से एक है और सरकार समस्या को हल करने के लिए गंभीर है, आपको पता होना चाहिए कि जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शपथ ली, तो उन्होंने कहा था कि उनकी सेवा गरीबों के लिए उपलब्ध होगी। उन्होंने कहा कि 42 करोड़ से अधिक जन धन खाते हैं और पीएम किसान सम्मान निधि योजना 11 करोड़ किसानों को सालाना 6,000 रुपये प्रदान कर रही है।

ये भी पढ़ेंः AAP का दावाः गुजरात भाजपा टीम करेगी दिल्ली की स्कूलों-मोहल्ला क्लीनिक का दौरा, पार्टी ने किया जोरदार खंडन

मंत्री ने दावा किया, किसानों को 6,000 रुपये प्राप्त करना संभव नहीं होता अगर यह हमारे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की दृष्टि नहीं होती। केंद्रीय मंत्री ने दीमापुर में मधुमक्खी पालन मिशन में शहद प्रयोगशाला का उद्घाटन किया और नॉर्थ ईस्ट एग्री एक्सपो में नागालैंड बांस विकास एजेंसी और जैविक बाजार का भी दौरा किया। नागालैंड के कृषि और सहकारिता मंत्री काइटो ऐ ने समारोह में बोलते हुए कहा कि राज्य कृषि और संबद्ध क्षेत्र में अच्छा प्रदर्शन कर रहा है और कहा कि राज्य को छोटे राज्यों की श्रेणी के तहत खाद्यान्न उत्पादन के लिए लगातार दो वर्षों के लिए कृषि कर्मण पुरस्कार मिला है।