परसपुर थाना इलाके में एटीएम हैकर गैंग का खुलासा किया है। नागालैंड पुलिस और गोंडा पुलिस ने मिलकर कार्रवाई को अंजाम दिया है। आरोप है कि गिरोह के लोग विभिन्न राज्यों में एटीएम से छेड़छाड़ कर बैंकों को चूना लगाते थे। पुलिस ने छापेमारी कर गिरोह के दो लोगों कि गिरफ्तार किया है। नागालैंड इसके मास्टरमाइंड को पहले ही गिरफ्तार कर चुकी थी। पुलिस ने आरोपियों के पास से एटीएम कार्ड और कैश बरामद किया है।

एटीएम से फ्रॉड के लिए आरोपी हाईटेक तरीका अपनाते थे। पुलिस ने बताया कि आरोपी एटीएम से पैसा निकालते समय मनी विंडो के शटर को हाथ से रोक लेते थे। कुछ देर रुकने के बाद एटीएम में ऑटोमेटिक ट्रांजैक्शन फेल दिखाई देने लगता था। इस प्रकार बैंक कटी हुई राशि को वापस अकाउंट में ट्रांसफर कर देता था। पुलिस ने बताया कि आरोपी लोगों के चेन बनाते थे। ये लोगों से एटीएम कार्ड और पिन इकट्ठा करते और इसके बदले उनको 5 हजार रुपये देते थे। 

इस ग्रुप के मास्टरमाइंड उस एटीएम धारक के खाते में अपने पास से पैसा डालते थे और फिर उसे एटीएम से निकालते थे। एटीएम से पैसा निकलने के बाद मनी विंडो को रोक लेते थे। इस तरह ट्राजेक्शन फेल होने पर बैंक पैसा वापस भेज देता था।  

पुलिस ने बताया कि ये गिरोह लाखों रुपये का चूना लगा चुका है। बैंक की शिकायत पर नागालैंड पुलिस ने एक्शन लिया। दो आरोपियों को गोंडा में धर दबोचा गया। पुलिस बाकी आरोपियों की तलाश कर रही है।