हिमाचल के जवान का शव नागालैंड चैकपोस्ट पर लटका हुआ मिला है। यह जवान CRPF में तैनात था और हमीरपुर जिला के ग्राम पंचायत मती टीहरा के गांव सियूनी का रहने वाला था। जवान की मौत पर पूरे गांव में मातम छा गया है। वहीं परिजनों ने इसे हत्या बताया है और प्रदेश सरकार से मौत के कारणों की जांच की मांग की है।

यह भी पढ़ें : सबसे पुराने कृषि उत्सव 'पोंग्टु' पर राज्यपाल ने दी अरुणाचल को बधाई, दिया ये संदेश

खबर है कि अश्वनी कुमार सीआरपीएफ असम में तैनात था। दो दिन पहले ही अश्विनी की उसके भाई कुशल के साथ फोन पर बात हुई थी। इसमें उसने प्रताड़ित करने की बात भी कही थी। अश्वनी ने अपने भाई को बताया था कि कुछ दिन पहले ड्यूटी के दौरान उसकी कुछ कहासुनी हुई थी, जिसके बाद से उसे लगातार प्रताड़ित किया जा रहा है। हालांकि उसने अपने भाई कुशल को यह बात घर में किसी को भी ना बताने की हिदायत भी दी थी। 

यह भी पढ़ें : कर्नाटक और मणिपुर के बाद कांग्रेस का उत्तराखंड में बड़ा फेरबदल, इस नेता को बनाया अध्यक्ष

अश्वनी का कहना था कि परिवार के लोग चिंता करेंगे। इसलिए इस बात को किसी को ना बताए। जिसके चलते परिजनों ने भारत सरकार से इस मामले की जांच की मांग की है, ताकि जवान अश्विनी कुमार कौंडल की मौत के सही कारणों का पता चल सके।