सुरक्षा बलों द्वारा नागालैंड के 13 नागरिकों की हत्या के बाद से पूर्वोत्तर में सशस्त्र बल विशेष अधिकार अधिनियम (AFSPA) को निरस्त करने की मांग जोर-शोर से बढ़ रही है। अखिल असम छात्र संघ (AASU) ने गुवाहाटी के दिघालीपुखुरी में AFSPA को खत्म करने की मांग को लेकर प्रदर्शन किया। AASU के मुख्य सलाहकार समुज्जल भट्टाचार्य ने कहा कि "नागालैंड हत्याओं के दोषियों को कड़ी सजा मिलनी चाहिए।"

भट्टाचार्य ने कहा कि "पूरे पूर्वोत्तर में अफस्पा को खत्म किया जाना चाहिए। उन्होंने आगे केंद्र पर पूर्वोत्तर की अनदेखी करने का आरोप लगाया। केंद्र को याद रखना चाहिए कि कोलकाता से परे भारत का एक हिस्सा है। नागालैंड के लोगों पर हमला असम के लोगों पर हमला है "।