नागालैंड में अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव से पहले नागा पीपुल्स फ्रंट (एनपीएफ) के 21 विधायकों का शुक्रवार को नेशनलिस्ट डेमोक्रेटिक प्रोग्रेसिव पार्टी (एनडीपीपी) में विलय हो गया। एनडीपीपी के प्रवक्ता मेरेंतोशी जमीर ने शुक्रवार को कोहिमा में कहा, “मुख्यमंत्री नेफ्यू रियो और उनकी सरकार के नेतृत्व को मजबूत करने के लिए एनपीएफ के 21 विधायकों का आज दोपहर एनडीपीपी पार्टी के अधिकारियों के साथ विलय हो गया है। उनके साथ पूर्व राज्यसभा सांसद केजी केने भी पार्टी में शामिल हो गए।”

यह भी पढ़े : राशिफल 30 अप्रैल 2022: चंद्रमा और राहु ग्रहण योग बनाकर चल रहे हैं, आज इन राशिवालों को लिए धन लाभ के योग


उन्होंने कहा कि विधायकों का विलय सरकार और नेतृत्व को मजबूत करेगा। जमीर ने कहा, “हम उन सभी 21 का स्वागत करते हैं और निकट भविष्य में अन्य लोगों का भी इसमें शामिल होने का स्वागत करते हैं।" 

उन्होंने कहा, "'यूनाइटेड डेमोक्रेटिक अलायंस (यूडीए) का गठन नागा राजनीतिक मुद्दे के लिए किया गया था। इसलिए नेताओं ने महसूस किया कि एक राजनीतिक दल के अधीन रहने से नागा मुद्दे को और मजबूत करने और आगे बढ़ाने में मदद मिलेगी।'' उन्होंने कहा,  '21 विधायकों का एक छतरी के नीचे आना और एक ही पार्टी के तहत होने से मजबूती मिलेगा। यहां विपक्ष विहीन सरकार हो चुकी है।''

यह भी पढ़े : Shani Gochar : 30 साल बाद कुंभ राशि आए शनि देव, धनु राशि वालों को साढ़े साती से छुटकारा, जानिए सभी राशियों पर प्रभाव


जिन 21 विधायकों का एनडीपीपी में विलय हुआ उनमें यूडीए अध्यक्ष और एनपीएफ विधायक दल के नेता टीआर जेलियांग, मोआतोशी लोंगकुमेर, अझेतो झिमोमी, केनिझाखो नखरो, वाई विखेहो स्वू, डॉ. छोतिसुह साजो, यिताचु, अमेनबा यादेन, इम्तिवापांग एइर, इमकोंग एल इमचेन शामिल हैं। एनएलए स्पीकर के उसी दिन जारी किए गए आदेश के अनुसार, पिक्टो शोहे, डॉ चुम्बेन मरी, वाईएम योलो, सीएल जॉन, एन थोंगवांग कोन्याक, ईशाक कोन्याक, ईई पेंटेंग, बीएस नगनलंग फोम, मुथिंग्युबा संगतम, टोयांग चांग और केजोंग चांग का नाम भी उनमें शामिल है। एनपीएफ के पास अब केवल चार विधायक रह गए हैं।