नागालैंड की 30 वर्षीय युवती को नौकरी झांसा देकर नागौर लाकर दुष्कर्म कर बेचने को लेकर गुरुवार रात महिला थाने में तीन लोगों के खिलाफ मामला दर्ज हुआ। पुलिस के अनुसार दीमापुर (नागालैंड) की युवती ने रिपोर्ट दी कि उनके गांव के पास आसाम राज्य में स्थित एक पेट्रोल पंप पर काम करने वाले से उसकी जान-पहचान थी।

उसने उसे राजस्थान में नौकरी दिलवाने का कहकर अपने दोस्त किशोर जांगिड़ निवासी खोरड़ी (नागौर) से फोन पर बात करवाई। किशोर ने उसे प्लेन की टिकट भेजी तो वह सात नवंबर, 2018 को गुवाहाटी से जयपुर आ गई। जयपुर में किशोर उसे अपनी कार में अपने गांव ले गया। वहां आरोपी ने उसे अगस्त 2019 तक खेत में बने मकान में रखा और उसके साथ दुष्कर्म करता रहा। विरोध करने पर आरोपी शराब पीकर उससे मारपीट करता।

रिपोर्ट में बताया गया कि आरोपी ने 16 अगस्त, 2019 को सुभाष पुत्र सत्यनारायण जांगिड़ निवासी सुजनपुरा, धोद (सीकर) के साथ उसकी शादी का नाटक कर उसे एक लाख 30 हजार रुपए में बेच दिया। इसके बाद सुभाष ने उसे छह अक्टूबर, 2019 तक अपने पास रखा और उसके साथ दुष्कर्म कर उसका देहशोषण करता रहा। सुभाष दिव्यांग था।

सुभाष ने अपने भाई को उसे सौंप दिया और वह उसे चूरू लाकर दुष्कर्म करता रहा। रिपोर्ट में बताया गया कि अक्टूबर, 2019 में सुभाष ने उसे अपने भाई रमेश जांगिड़ को सौंप दिया। अच्छा काम दिलवाने का कहकर रमेश उसे चूरू ले आया और किराए के मकान में रखा। यहां पर रमेश उसके साथ दुष्कर्म किया। इसके बाद रमेश नहीं आया और उससे उसका संपर्क भी नहीं हुआ। वह हिंदी भाषा नहीं जानने के कारण भटकती रही। 17 सितंबर 2020 को रमेश दो-तीन लाेगों के साथ आया और उसे उनके साथ जाने का कहा। उसके मना करने पर रमेश ने उसे जान से मारने की धमकी दी।