कोहिमा। नागलैंड में नागा पीपुल्स फ्रंट (एनपीएफ) पार्टी को तगड़ा झटका देते हुए पार्टी के 21 विधायकों ने नेशनलिस्ट डेमोक्रेटिक प्रोग्रेसिव पार्टी (एनडीपीपी) दामन थाम लिया है। एनडीपीपी में शामिल होने वालों में यूनाइटेड डेमोक्रेटिक अलायंस (यूडीए) के अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री टी आर जेलियांग और वर्तमान मंत्री वाई एम योलो शामिल हैं। सूत्रों के मुताबिक एनडीपीपी में शामिल होने वाले एनपीएफ विधायक टी आर जेलियांग, मोआतोशी लोंगकुमेर, अजेतो झिमोमी, केनेइजाखो नाखरो, वाई विखेहो स्वू, डॉ छोतिसुह साजो, यिताचु, अमेनबा यादेन, इम्तिवापांग एएर, इमकोंग एल इमचेन, पिक्टो शोहे, डॉ चुम्बेन मरी शामिल हैं। 

यह भी पढ़े : IPL 2022 में मुंबई इंडियंस को मिली पहली जीत, ईशान किशन ने कहा- यह समय एक-दूसरे के साथ खड़े रहने का है

इसके अलावा वाई एम योलो, सी एल जॉन, एन थोंगवांग कोन्याक, ईशाक कोन्याक, ई. ई. पेंटिंग, बी एस नगनलंग फोम, मुथिन्नुबा संगतम, टोयांग चांग और केजोंग चांग भी एनडीपीपी में शामिल हुए हैं। कोहिमा में एनपीएफ नेतृत्व और एनपीएफ विधायक दल के बीच एक बैठक के बाद शनिवार को संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए एनपीएफ अध्यक्ष डॉ. शुरहोजेली लिजित्सु ने कहा कि पार्टी सभी दृष्टि कोणों से 'अखंड' है। 

यह भी पढ़े : Monthly Horoscope May 2022: ग्रहों का उलटफरे इन राशिवालों को आर्थिक लाभ दिलाएगा, इन राशियों के लिए जोखिम भरा रहेगा ये महीना


उन्होंने कहा कि उन्हें इस बात का आश्चर्य नहीं है कि एनपीएफ के 21 विधायकों ने पार्टी छोड़ दी। जहां तक पार्टी संगठन का सवाल है, वह अभी भी बरकरार हैं। विलय के मुद्दे पर नागालैंड विधानसभा अध्यक्ष की टिप्पणी का जवाब देते हुए डॉ लिजित्सु ने कहा, 'बहुत स्पष्ट है कि यह विलय नहीं है। वे एनडीपीपी में शामिल हो गए हैं। उन्होंने कहा, 'हमारी ओर से, यह स्पष्ट रूप से दलबदल है।' एनपीएफ के चार शेष विधायक, जो पार्टी में बने हुए है, उनमें ख्रीहु लिजात्सिु, कुझोलुजो निएनु, केजएिनी खालो और डॉ नगांशी के एओ शामिल हैं।