एक अधिकारी ने कहा कि मिजोरम में अफ्रीकी स्वाइन बुखार से कम से कम 16 और सूअरों की मौत हो गई और राज्य में इस बीमारी के कारण मरने वाले सुअरों की संख्या दो महीने में बढक़र 770 हो गई। उन्होंने कहा कि इस साल फरवरी से संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए कम से कम 124 सूअरों को मार दिया गया है।

ये भी पढ़ें: मिजोरम में तूफान का कहर, एक ही झटके में उजड़ गए 200 से ज्यादा घर


पशुपालन और पशु चिकित्सा विभाग के संयुक्त निदेशक ने बताया कि इसके अलावा संदिग्ध अफ्रीकी स्वाइन बुखार के कारण 205 सूअरों की मौत हो गई है। प्रकोप के कारण आइजोल, चम्फाई, लुंगलेई और सैतुअल जिलों के कम से कम 17 गांव प्रभावित हुए हैं,  

ये भी पढ़ें: सीनियर महिला टी20 ट्रॉफीः जम्मू कश्मीर ने मिजोरम की टीम को 4 विकेट से रौंदा


उन्होंने कहा कि राज्य सरकार अफ्रीकन स्वाइन फीवर के नियंत्रण, रोकथाम और उन्मूलन के लिए राष्ट्रीय कार्य योजना के तहत सुअर की बीमारी को फैलने से रोकने के लिए प्रयास कर रही है। इस साल एएसएफ के मामले सामने आने के बाद मिजोरम पहले ही दूसरे राज्यों से सूअर और सूअर के मांस के उत्पादों के आयात पर प्रतिबंध लगा चुका है। पिछले साल एएसएफ के प्रकोप के कारण कुल मिलाकर 33,417 सूअरों की मौत हो गई थी, जिससे 60.82 करोड़ रुपये का नुकसान हुआ था। पिछले साल मार्च में राज्य में पहली बार संक्रामक रोग की सूचना मिली थी।