आइजोल। मिजोरम सरकार (Mizoram Government) ने भीषण आग की मजिस्ट्रियल जांच के आदेश दिए हैं, जिसमें 131 साल पुराने हेरिटेज भवन (131 year old heritage building) के अधिकांश हिस्से नष्ट हो गए थे। इमारत में आइजोल जिला उपायुक्त (DC) कार्यालय स्थित है। अधिकारियों ने शनिवार को यह जानकारी दी।

अधिकारियों ने कहा कि शुक्रवार को लगी भीषण आग ने डीसी कार्यालय के बड़े हिस्से को मलबे में बदल दिया, जबकि दमकल और आपातकालीन सेवाओं के कर्मियों ने आग पर काबू पाने के लिए कई घंटों तक मशक्कत करनी पड़ी।

एक आधिकारिक बयान में कहा गया है कि अग्नि और आपातकालीन सेवा कर्मियों के सर्वोत्तम प्रयासों के बावजूद, आग ने इमारत के अधिकांश हिस्सों को नष्ट कर दिया था, जिसमें चुनाव शाखा, योजना शाखा, शस्त्र शाखा, आईएलपी शाखा, जनगणना शाखा, स्थापना, नजीर, डीसी कार्यालय कक्ष के अलावा दो अतिरिक्त डीसी और एसडीओ (सदर) कार्यालय कक्ष मौजूद हैं।

हालांकि आग में कोई हताहत नहीं हुआ। एक अन्य आधिकारिक अधिसूचना में कहा गया है कि आइजोल उपायुक्त कार्यालय को अस्थायी रूप से आइजोल शहर के खटला में ओल्ड एमएलए हॉस्टल में स्थानांतरित कर दिया गया है। आइजोल उपायुक्त कार्यालय 25 दिसंबर तक जनता के लिए बंद रहेगा।

131 साल पुरानी हेरिटेज बिल्डिंग नॉर्थ लुशाई हिल्स में पहला ऑफिस था। लुशाई हिल्स 1972 तक असम का एक हिस्सा था। मिजोरम 20 फरवरी, 1987 को केंद्र शासित प्रदेश से भारत का 23वां राज्य बना। आपदा प्रबंधन और पुनर्वास मंत्री लालचमलियाना, कई अन्य मंत्री और शीर्ष अधिकारी घटनास्थल का दौरा कर चुके हैं।