बंगाल के पूर्व स्पिन गेंदबाज और मिजोरम अंडर 19 टीम के हेड कोच मुर्तजा लोधगर का शुक्रवार रात दिल का दौरा पड़ने से निधन हो गया। वह 45 साल के थे और उन्होंने विशाखापट्टनम में अपनी आखिरी सांस ली। मुर्तजा मिजोरम टीम के साथ विशाखापट्टनम गए थे, जहां टीम को वीनू मांकड टूर्नामेंट में हिस्सा लेना था। बंगाल क्रिकेट संघ के अध्यक्ष अविषेक डालमिया ने इस बात की जानकारी दी। मुर्तजा ने अपने घरेलू क्रिकेट करियर में 9 रणजी मैचों में 34 विकेट अपने नाम किए थे। 

डालमिया ने कहा, 'रात को खाना खाने के बाद यह दुखद घटना हुई। मुर्तजा भाई (लोधगर) और टीम के फिजियो रात का खाना खाकर टहलने के लिए बाहर गए थे कि तभी उनके सीने में तेज दर्द हुआ और वह नीचे गिर गए। फिजियो और टीम के अन्य सदस्य उन्हें तुरंत अस्पताल ले गए जहां उन्हें मृत घोषित किया गया।' वीनू मांकड टूर्नामेंट से ही भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) के घरेलू सीजन की भी शुरुआत हो रही है। मुर्तजा ने साल 1997 में फर्स्ट क्लास क्रिकेट में अपना डेब्यू किया था और 2007 में उन्होंने बडौदा के खिलाफ अपने करियर का आखिरी मैच खेला था। लिस्ट-ए क्रिकेट में मुर्तजा ने 5 मैचों में 4 विकेट अपने नाम किए थे। मिजोरम के कोच के इस तरह से अचानक निधन पर क्रिकेट जगत ने शोक जताया है।