मिजोरम सरकार ने कोरोना संक्रमण के मद्देनजर सभी स्कूल और हॉस्टलों को दो सप्ताह के लिए बंद करने का फैसला किया है। अधिकारियों ने बताया कि 'Covid-19 नो टॉरलेंस फोर्टनाइट' के तहत यह फैसला लिया गया है, जिसकी शुरुआत सोमवार से हुई। मिजोरम के शिक्षा मंत्री लालचंदमा राल्ते ने बताया, दो सप्ताह तक स्कूल और हॉस्टल को बंद करने का यह फैसला विशेष तौर पर 10वीं और 12वीं के स्टूडेंट्स को ध्यान में रखकर लिया गया, जिन्हें कोरोना से अधिक खतरा है। उनकी बोर्ड परीक्षा में कुछ महीने ही बचे हैं। बता दें कि मिजोरम में कोरोना वायरस के 58 नए मामले सामने आए हैं, जिसमें दो प्राइवेट स्कूल के 15 छात्र भी संक्रमित हो गए हैं। 

उन्होंने बताया कि संक्रमण की स्थिति को देखते हुए ही 9 नवंबर के बाद स्कूल और हॉस्टल को खोलने को लेकर फैसला लिया जाएगा। गौरतलब है कि भारत में अभी तक कोरोना के 78 लाख केस सामने आ चुके हैं, लेकिन मिजोरम ही एकमात्र ऐसा राज्य है, जहां इस संक्रमण की वजह से अभी तक एक भी मौत की रिपोर्ट नहीं है।

मिजोरम के शिक्षा विभाग ने शुक्रवार को बैठक की, जिसमें स्कूल और हॉस्टल को फिर से बंद करने का फैसला लिया गया। आदेश में यह स्पष्ट रूप से कहा गया कि बोर्ड परीक्षा से जुड़े रजिस्ट्रेशन संबंधी काम और स्टूडेंट्स की ऑनलाइन क्लासेज़ मिस नहीं होनी चाहिए।