मिजोरम सरकार ने कोरोना वायरस के मामलों में कमी आने के साथ ही पाबंदियों में ढील दे दही है। इसके साथ ही सरकार ने स्कूल तथा कॉलेजों को फिर से खोलने की अनुमति दे दी। सरकार ने नए दिशा निर्देशों में कहा कि पांच अप्रैल से शुरू हो रहे नए अकादमिक सत्र से सभी कक्षाओं के लिए स्कूल और छात्रावास फिर से खोले जाएंगे। उसने कहा कि स्कूल शिक्षा विभाग द्वारा तैयार मानक संचालन प्रक्रिया का सख्ती से पालन किया जाए। इसमें कहा गया है कि अंतिम सेमेस्टर के छात्रों के लिए कॉलेज तत्काल प्रभाव से खोले जाएंगे जबकि अन्य सेमेस्टर के छात्रों के लिए ऑफलाइन कक्षाएं जुलाई में शुरू हो रहे नए अकादमिक सत्र से शुरू होंगी।

यह भी पढ़ें : यूक्रेन की तरह मणिपुर में फटने वाले थे बम, AssamRifles ने नाकाम किया आतंकियों का हमला

छात्रों के लिए अंतिम सेमेस्टर के कॉलेज तत्काल प्रभाव से फिर से खोले जाएंगे, जबकि अन्य सेमेस्टर के छात्रों के लिए ऑफलाइन कक्षाओं को जुलाई से शुरू होने वाले नए शैक्षणिक सत्र से अनुमति दी जाएगी। मिजोरम विश्वविद्यालय के बागवानी (HAMP) पीएचडी स्कॉलर को अब पाठ्यक्रम के काम के लिए कक्षाओं में भाग लेने की अनुमति है।

राज्य सरकार ने सोमवार को राज्य में प्रवेश करने वाले लोगों के लिए अनिवार्य ट्रेवल पास ‘mPASS’ की अनुमति को वापस ले लिया था, जो दो साल से अधिक समय से लागू है। माल और वस्तुओं को ले जाने वाले वाहनों के लिए mcovid19.mizoram.gov.in पर पंजीकरण की अनिवार्यता को भी वापस ले लिया गया है।

यह भी पढ़ें : इस राज्य के मुख्यमंत्री ने दिखाई हिम्मत, पूरे विधायकों के साथ देखी The Kashmir Files

सरकार ने सभी प्रार्थना स्थलों को दिन में और शाम के दौरान खोले रखने की भी अनुमति दी है। श्रद्धालुओं की संख्या पर से सीमा हटा दी गयी है। गिरजाघरों में भी सभाओं की अनुमति दे दी गयी है। मिजोरम में बृहस्पतिवार को कोविड-19 के 239 मामले आए जिससे संक्रमण के कुल मामलों की संख्या 2,21,977 पर पहुंच गयी है। किसी मरीज की मौत न होने के कारण मृतकों की संख्या 672 पर बनी हुई है। पिछले 24 घंटे में 400 लोग संक्रमण मुक्त हुए हैं। राज्य में अभी 2,488 मरीज उपचाराधीन हैं जबकि 2,18,817 लोग बीमारी से उबर चुके हैं।