आइजोल। मिजोरम (Mizoram) ने महत्वाकांक्षी कलादान बहुविध पारगमन एवं परिवहन परियोजना का अपने हिस्से का 96 प्रतिशत कार्य पूरा कर लिया है। राज्य के लोक निर्माण विभाग (PWD) ने बुधवार को यहां जारी आधिकारिक विज्ञप्ति में यह जानकारी दी।

इस परियोजना का उद्देश्य उत्तर पूर्व भारत को म्यांमा के सित्तवे बंदरगाह के रास्ते कोलकाता से जोड़ना है।

विज्ञप्ति में बताया गया कि पीडब्ल्यूडी के सचिव जेसी रामथंगा के नेतृत्व में विभाग के अधिकारियों ने मंगलवार को राज्यपाल हरि बाबू कम्भमपति से राजभवन में मुलाकात की और उन्हें इस द्विपक्षीय परियोजना की प्रगति संबंधी जानकारी दी।

यह पारगमन परियोजना करीब 882.21 किलोमीटर लंबी है जिसकी शुरुआत अप्रैल 2008 में तत्कालीन संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (संप्रग) की सरकार ने ‘लुक ईस्ट’ नीति के तहत की थी। शुरुआत में इस परियोजना को वर्ष 2014 में पूरा करने का लक्ष्य था। इस परियोजना से उत्तर पूर्व के क्षेत्रों की कोलकाता से दूरी आधी रह जाएगी।

राज्यपाल को अधिकारियों ने बताया कि परियोजना का 87.51 किलोमीटर का रास्ता मिजोरम में पड़ता है जिसमें से 84.19 किलोमीटर हिस्से का निर्माण हो चुका है।