पूर्वोत्तर राज्य मिजोरम के कई हिस्सों में मक्का की खेती को कीट फॉल आर्मीवॉर्म (एफएडब्ल्यू) नुकसान पहुंचा रहे हैं। कृषि विभाग के निदेशक जेम्स लालसियामलियाना ने बताया कि 13 मई को राज्य के कुछ हिस्सों से कीटों के असर को लेकर रिपोर्ट मिली थी। 

ये भी पढ़ेंः कांग्रेस और मिजो नेशनल फ्रंट एमएडीसी में गठबंधन सरकार बनाने के लिए तैयार


इसके बाद सभी जिलों में कृषि अधिकारियों को प्रकोप को रोकने के लिए कदम उठाने के लिए सतर्क किया गया। लालसियामलियाना ने कहा कि कीटों नेसात जिलों के 89 गांवों को प्रभावित किया है। उन्होंने कहा कि राज्य भर में 490 हेक्टेयर से अधिक भूमि में एफएडब्ल्यू का पता चला है, जहां मक्का की खेती की जाती है। उन्होंने कहा कि लुंगलेई और ममित जिले सबसे ज्यादा प्रभावित हैं।  

ये भी पढ़ेंः आम आदमी पार्टी की मिजोरम में आधार बनाने की योजना, सदस्यता अभियान शुरू


उन्होंने कहा कि आइजोल जिले में 38.4 हेक्टेयर भूमि में एफएडब्ल्यू पाया गया, जिससे 15 गांव प्रभावित हुए।  लालसियामलियाना ने कहा कि एफएडब्ल्यू का प्रकोप पहली बार 2019 में राज्य में पाया गया था। उन्होंने कहा कि सरकार किसानों को कीटनाशक और कीटनाशक उपलब्ध कराकर प्रकोप को रोकने के लिए कदम उठा रही है। उन्होंने कहा कि किसानों को कीट को मारने के लिए साबुन के घोल, नमक और लाल मिर्च का मिश्रण और राख का उपयोग करने का निर्देश दिया गया है। साल  2019 में फॉल आर्मीवॉर्म ने 20 करोड़ रुपये से अधिक की फसलों को नुकसान पहुंचाया।