मिजोरम में मारा ऑटोनॉमस डिस्ट्रिक्ट काउंसिल (एमएडीसी) के चुनावों में एक हफ्ते से भी कम समय बचा है। ऐसे में राजनीतिक दल 2023 के विधानसभा चुनावों से पहले एक बड़ी जीत हासिल करने में कोई कसर नहीं छोड़ रहे हैं। दक्षिण मिजोरम के सियाहा जिले में मारा लोगों के लिए 25 सदस्यीय परिषद के लिए 5 मई को मतदान होगा।

ये भी पढ़ेंः मिजोरम में कोरोना के 99 नए मामले, अब तक 696 लोग गवां चुके हैं अपनी जान


बता दें कि मिजो नेशनल फ्रंट (एमएनएफ) सभी 25 सीटों पर चुनाव लड़ रहा है। वहीं भाजपा ने 24 सीटों पर अपने उम्मीदवार उतारे हैं, जबकि कांग्रेस ने 23 उम्मीदवारों के नाम घोषित किए हैं। राज्य की मुख्य विपक्षी पार्टी जोरम पीपुल्स मूवमेंट (जेडपीएम) ने आठ सीटों पर चुनाव लड़ा है। एमएनएफ ने कहा कि उसे विश्वास है कि वह चुनाव जीतेगी। पार्टी के प्रचार अभियान का नेतृत्व कर रहे ग्रामीण मंत्री लालरुआत्किमा ने कहा, मारा इलाके में एमएनएफ कार्यकर्ताओं के उत्साह को देखते हुए मैं परिषद चुनावों को लेकर बहुत आशान्वित हूं।

ये भी पढ़ेंः आठ साल में मिजोरम सहित पूर्वोत्तर राज्यों में उग्रवादी वारदात में आई 80 फीसदी तक की कमी, दो दशकों पहली बार हुआ ऐसा


उन्होंने दावा किया कि एमएनएफ सरकार कांग्रेस के विपरीत राज्य की सीमाओं की रक्षा के लिए कड़ी मेहनत कर रही है। कांग्रेस ने यह दावा करते हुए चुनाव जीतने का भरोसा जताया कि लोगों का राज्य की एमएनएफ सरकार पर से भरोसा उठ गया है। कांग्रेस विधायक दल के नेता जोदिन्टलुआंगा ने कहा कि पार्टी गरीबों के लिए काम कर रही है और अपने नए प्रदेश अध्यक्ष लालसावता के नेतृत्व में खुद को सुधार रही है। उन्होंने कहा, कई बार लोग कांग्रेस को खारिज करते हैं, लेकिन वह फिर से उठ खड़ी होती है। वहीं प्रदेश भाजपा अध्यक्ष वनलालमुआका ने कहा कि उनकी पार्टी को 25 में से कम से कम 14 सीटों पर जीत की उम्मीद है। उन्होंने दावा किया, अगर कोई अप्रत्याशित घटना नहीं हुई तो बीजेपी 14-17 सीटें जीतेगी।