मिजोरम के चम्फाई में आज भूकंप के झटके महसूस किए गए। भूकंप विज्ञान केन्द्र के अनुसार देर रात करीब बारह बजकर 50 मिनट पर आए इस भूकंप की तीव्रता 4.4 थी और इसका केन्द्र चम्फाई के पूर्व में पचास किलोमीटर पर था और इसकी गहराई जमीन से तेरह किलोमीटर नीचे थी। भूकंप से जान माल की हानि की कोई सूचना नहीं है।

ये भी पढ़ेंः म्यांमार में ताजा हिंसा: एकसाथ 600 से अधिक म्यांमार नागरिक मिजोरम आए


बता दें कि इससे पहले 25-26 अगस्त की रात को जम्मू कश्मीर से लेकर महाराष्ट्र तक भूकंप के झटके महसूस किए गए थे। वहीं अफगानिस्तान में भी धरती हिलने से लोग घबरा गए थे। तब महाराष्ट्र के कोल्हापुर में रात के 2.21 मिनट पर भूकंप के झटके महसूस किए गए थे, जिसकी तीव्रता 3.9 मापी गई। इसके बाद जम्मू कश्मीर में भी भूकंप के झटके महसूस किए गए थे। रिक्टर स्केल पर इस भूकंप की तीव्रता 3.4 मापी गई थी।


ये भी पढ़ेंः आने वाले 48 घंटे होंगे बेहद खतरनाक, इन राज्यों में गरज के साथ भारी बारिश की चेतावनी जारी


आपको बता दें कि भूकंप के आने को समझने से पहले हमें जानना होगा कि धरती के नीचे मौजूद प्लेटों की संरचना को समझना होगा। भू-विज्ञान के मुताबिक पूरी धरती 12 टैक्टोनिक प्लेटों पर स्थित है। इन प्लेटों के टकराने पर जो ऊर्जा निकलती है, उसे भूकंप कहा जाता है। दरअसल धरती के नीचे मौजूद ये प्लेटें बेहद धीमी रफ्तार से घूमती रहती हैं। हर साल 4-5 मिमी अपनी जगह से खिसक जाती हैं। इस दौरान कोई प्लेट किसी के नीचे से खिसक जाती है, तो कोई दूर हो जाती है। इस दौरान जब प्लेटें आपस में टकराती हैं तो भूकंप आता है।