मिजोरम सरकार ने कोरोना वैश्विक महामारी के कारण नौकरियां गंवाने वाले प्रवासी श्रमिकों को उचित रोजगार हासिल करने में मदद करने के लिए एक परियोजना शुरू की है।

मुख्यमंत्री जोरमथांगा ने मिजोरम युवा आयोग (एमजेडसी) के तहत लौटे प्रवासी कर्मियों के लिए आजीविका सृजन परियोजना शुरू की है। पूर्वोत्तर परिषद इस परियोजना के लिए धन मुहैया कराएगी और इसके तहत 2,600 से अधिक लोगों को लाभान्वित किया जाएगा। इन लोगों को कौशल के आधार पर प्रशिक्षण एवं उद्यमिता विकास प्रशिक्षण दिया जाएगा, ताकि उन्हें उचित रोजगार मिल सके।

जोरमथांगा ने कहा कि लोक सेवा के तहत अधिक से अधिक अधिकारी तैयार करने के लिए कोचिंग एवं प्रायोजन कार्यक्रम भी शुरू किए जाएंगे। सत्तारूढ़ मिजो नेशनल फ्रंट के विधायक वनलालटनपुइया ने कहा कि कोरोना वैश्विक महामारी के कारण कम से कम 2,637 प्रवासी श्रमिकों की नौकरी चली गई है और वे राज्य लौटे हैं। यह परियोजना प्रवासी कर्मियों को उनकी आजीविका कमाने में मदद करेगी।