मिजोरम सरकार (Mizoram govt.) ने COVID-19 महामारी के दौरान राज्य के स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारियों द्वारा हड़ताल करने पर रोक लगा दी है। बता दें कि राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के संविदा कर्मचारी नियमित वेतन की मांग को लेकर अनिश्चितकालीन हड़ताल पर हैं।

स्वास्थ्य विभाग (Health department) द्वारा जारी आदेश में कहा गया है कि स्वास्थ्य और परिवार कल्याण विभाग के तहत कोई भी कर्मचारी मिजोरम आवश्यक सेवा रखरखाव अधिनियम, 1990 में परिभाषित महामारी के दौरान हड़ताल का आयोजन नहीं करेगा। आदेश में कहा गया है कि राज्य में अभी भी COVID-19 प्रचलित है, जिससे व्यक्तियों का शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य और कीमती जीवन का नुकसान होता है।

आदेश में कहा गया है कि न केवल कोविड​​​​-19 से संबंधित मामलों के लिए बल्कि किसी भी अन्य बीमारी के लिए स्वास्थ्य देखभाल सेवा वितरण पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ता है, जो पहले से ही हो सकता है या अनुबंध कर सकता है, जो उसे कोविड​​​​-19 के लिए अतिसंवेदनशील बना सकता है। निषेधात्मक यह छह माह के लिए प्रभावी रहा है।
जानकारी दे दें कि राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन (National Health Mission) के सैकड़ों संविदा कर्मचारी व कर्मचारी नियमितीकरण व नियमित वेतन की मांग को लेकर 17 दिसंबर से काम बंद कर अनिश्चितकालीन हड़ताल पर हैं। कर्मचारी मांग कर रहे हैं कि उन्हें राज्य के स्वास्थ्य विभाग के तहत नियमित कर्मचारियों के रूप में नियुक्त किया जाए। उन्होंने यह भी आरोप लगाया कि उन्हें अनियमित भुगतान किया गया था।