भारत मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) ने कहा कि मानसून अब पूर्वी भारत के बड़े हिस्से, पूर्वोत्तर भारत, ओडिशा, तमिलनाडु सहित अन्य स्थानों पर तेजी से आएगा और दक्षिण-पश्चिम मानसून के आगे बढ़ने में पूर्वोत्तर से मदद मिल सकती है। 

ये भी पढ़ेंः अफ्रीकन स्वाइन फीवर के कारण फरवरी से अब तक करीब 5000 सुअरों की मौत


आईएमडी के एक वरिष्ठ मौसम विज्ञानी ने कहा, पूर्वी भारत के कुछ हिस्सों - ओडिशा, गंगीय पश्चिम बंगाल और बिहार, झारखंड और छत्तीसगढ़ के आस-पास के क्षेत्रों, पूर्वोत्तर भारत, दक्षिण मध्य प्रदेश और इसके पड़ोस, केरल और तमिलनाडु तेजी से आएगा।

ये भी पढ़ेंः असम राइफल्स की बड़ी कार्रवाई, म्यांमार से तस्करी की सिगरेट जब्त की


आईएमडी की चेतावनी में कहा गया है कि मानसून बिजली और तेज हवाओं के साथ मध्यम/तीव्र गरज के साथ कभी-कभी 50-60 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से आगे बढ़ जाता है - इन क्षेत्रों में कुछ घंटों तक बारिश होने की संभावना है। एक मौसम विज्ञानी ने कहा, हमारे पूवार्नुमान में कहा गया था कि उत्तरी अरब सागर के कुछ और हिस्सों, गुजरात के कुछ और हिस्सों, दक्षिण मध्य प्रदेश के कुछ हिस्सों में मानसून के आगे बढ़ने के लिए परिस्थितियां अनुकूल हैं। संपूर्ण मध्य महाराष्ट्र, मराठवाड़ा, कर्नाटक और तमिलनाडु, विदर्भ और तेलंगाना के कुछ हिस्से, आंध्र प्रदेश के कुछ और हिस्से, पश्चिम-मध्य और उत्तर-पश्चिम बंगाल की खाड़ी, ओडिशा के कुछ हिस्से, गंगीय पश्चिम बंगाल, झारखंड, संपूर्ण उप-हिमालयी पश्चिम बंगाल और बिहार के कुछ और हिस्सों में बाद के 2-3 दिनों के दौरान मानसून आएगा।