शुक्रताल के गौडीय मठ आश्रम में मिजोरम व त्रिपुरा के बच्चों का यौनशोषण करने के मामले में पीडितों के परिजनों ने आज जिलाधिकारी से गुहार लगाई है, कि उन्हें उनके बच्चों से मिलने दिया जाये और वह इस मामले में कोई कार्यवाही नहीं चाहते है।

जिलाधिकारी कार्यालय पर पहुंचे पीडित बच्चों के परिजनों ने आज जिलाधिकारी सेल्वाकुमारी जे से मुलाकात की और उन्हें एक प्रार्थना पत्र सौंप कर मांग की है कि उनको अपने बच्चों से मिलने की अनुमति दी जाये। वह अपने बच्चों से मिलने के लिये त्रिपुरा व मिजोरम से आये है, लेकिन उन्हें अभी तक भी बच्चों से नहीं मिलने दिया गया है। 

उन्होंने जिलाधिकारी से गुहार लगाई कि उन्हें उनके बच्चों से मिलने दिया जाये तथा बच्चों को वापस उनके साथ भेज दिया जाये। उन्होने कहा कि वह इस मामले में कोई कार्यवाही नहीं चाहते है और उनके बच्चों को साथ में वापस भेज दिया जाये।

उल्लेखनीय है कि विगत 9 जुलाई को शुक्रताल के गौडीयमठ आश्रम के दस बच्चों को मुक्त कराकर उनका चिकित्सीय परीक्षण कराया गया था, जिसमें बच्चों के यौन उत्पीडन का मामला भी सामने आया था। पुलिस ने इस मामले में आश्रम के संचालक व उसके शिष्य को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था। बाद में पुलिस ने संगीन धाराओं में चार्जशीट पाक्सो कोर्ट में दाखिल की थी।