भारत में जब कोरोना (Coronavirus) को लेकर जब तकरीबन कुछ ठीक चल रहा है तो कुछ राज्य अभी भी चिंता बढ़ा रहे हैं। पूर्वोत्तर में स्थित मिजोरम (Mizoram) में पिछले 6 दिनों में कोरोना के 7799 केस सामने आए हैं। इस राज्य में पॉजिटिविटी रेट (positivity rate) बढ़कर 13 परसेंट हो गई है। राज्य में अब कोरोना का केस लोड 1 लाख 02 हजार 629 पहुंच गया है। बता दें कि मिजोरम की आबादी ही 11.20 लाख है। आंकड़ों के अनुसार कुल 8.9 प्रतिशत लोग कोरोना की चपेट में आ चुके हैं। मिजोरम सरकार के अनुसार बुधवार को राज्य में 1302 कोरोना के नए केस आए। जबकि पॉजिटिविटी रेट 13.02 प्रतिशत था। राज्य में कोरोना से मरने वालों का कुल आंकड़ा 341 हो गया है। बुधवार को भी कोरोना संक्रमण से 5 लोगों की मौत हुई।

खास बात यह है कि राज्य में कोरोना का मात्र एक अस्पताल है और आरटी पीसीआर टेस्ट (RT-PCR Test) करने वाला लैब की मात्र एक ही है। राज्य सरकार के आंकड़े बताते हैं कि अक्टूबर 1 को पॉजिटिविटी रेट 20.53 था जबकि 3 अक्टूबर को 28.97 फीसदी रिकॉर्ड किया गया। बता दें कि मिजोरम में इस वक्त मात्र 1 कोरोना अस्पताल है। ये अस्पताल राजधानी आइजोल में स्थित जोरम मेडिकल कॉलेज हैं। इस अस्पताल में 341 बेड और 34 ICU हैं। राज्य में एक मात्र कोरोना टेस्टिंग लैब है जो जेडएमसी में स्थित है। मिजोरम सरकार के स्वास्थ्य सेवाओं के निदेशक ने आजतक को फोन पर बताया कि राज्य में कोरोना की स्थिति चिंताजनक है और स्वास्थ्यकर्मी लगातार ज्यादा से ज्यादा टेस्ट करने में जुटे हैं।

उन्होंने कहा कि स्वास्थ्य विभाग की ओर से राज्य सरकार को प्रस्ताव दिया गया है कि हर जिले में एक कोविड अस्पताल खोला जाए इसके अलावा हर जिले में टेस्टिंग सेंटर की सुविधा भी प्रदान की जाए। उधर, राज्य के चिंताजनक हालात का जायजा लेने के लिए केंद्र ने चार सदस्यीय टीम को मिजोरम भेजा है। डॉक्टरों और विशेषज्ञों की ये टीम स्वास्थ्य अधिकारियों के साथ मीटिंग कर स्थिति का आकलन कर रही है।