आइजोल। मिजोरम के मुख्यमंत्री जोरमथांगा ने दिल्ली में गुरुवार शाम केंद्रीय शिक्षा और कौशल विकास मंत्री धर्मेंद्र प्रधान से मुलाकात की। इस दौरान उन्होंने दक्षिण मिजोरम के लुंगलेई शहर में मिजोरम विश्वविद्यालय (एमजेडयू) के दक्षिणी परिसर को खोलने के लिए केंद्र की मदद मांगी है। मुख्यमंत्री ने उन्हें राज्य में उच्च संस्थानों की स्थापना और शिक्षा में सुधार की आवश्यकता से अवगत कराया। उन्होंने केंद्रीय मंत्री से यह सुनिश्चित करने के लिए मदद देने का आग्रह किया कि लुंगलेई में प्रस्तावित एमजेडयू दक्षिणी परिसर जल्द से जल्द कार्यात्मक हो जाए। 

ये भी पढ़ेंः भाजपा ने ध्वस्त की त्रिपुरा की अर्थव्यवस्था की रीढ़ : माकपा

बयान में कहा गया है कि प्रधान ने जोरामथांगा को सूचित किया कि वह इस दिशा में कदम उठाएंगे। हाल ही में राज्य के उच्च और तकनीकी शिक्षा मंत्री डॉ. आर ललथंगलियाना ने राज्य विधानसभा को सूचित किया कि सरकार लुंगलेई में मिजोरम विश्वविद्यालय (एमजेडयू) के दक्षिणी परिसर के लिए बुनियादी ढांचे के निर्माण के लिए वित्त पोषण करने में असमर्थ होगी। मंत्री ने कहा था कि केंद्र चाहता है कि राज्य सरकार विश्वविद्यालय परिसर के लिए बुनियादी ढांचे के निर्माण के लिए आवश्यक धन की व्यवस्था करे।

उन्होंने कहा था, राज्य सरकार के लिए केंद्र की इच्छा के अनुसार एमजेडयू दक्षिणी परिसर के उद्घाटन के लिए वित्तपोषण करना असंभव है। उन्होंने कहा कि केंद्र ने 2020 में एमजेडयू के दक्षिणी परिसर की स्थापना को सैद्धांतिक रूप से मंजूरी दे दी थी और राज्य सरकार को परिसर के लिए भूमि अधिग्रहण करने के लिए भी कहा था और एमजेडयू, जो एक केंद्रीय विश्वविद्यालय है, बुनियादी ढांचे के निर्माण के लिए आवश्यक धन की व्यवस्था करने के लिए। 

ये भी पढ़ेंः अब समय आ गया है कि राज्य की बीजेपी-आईपीएफटी गठबंधन सरकार को तोड़ा जाए : देब

मंत्री के अनुसार, राज्य सरकार ने पहले ही परिसर के लिए जमीन का अधिग्रहण कर लिया है और भूमि पट्टा प्रमाण पत्र पहले ही एमजेडयू को सौंप दिया गया है। उन्होंने कहा था कि विश्वविद्यालय परिसर की स्थापना के लिए एमजेडयू द्वारा तैयार एक विस्तृत परियोजना रिपोर्ट (डीपीआर) पहले ही केंद्र को सौंपी जा चुकी है।