भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआइ) ने गुरुवार 17 दिसंबर की सुबह छह सेंटरों को जारी किया है, जहां 10 जनवरी से सैयद मुश्ताक अली टी20 टूर्नामेंट का आयोजन करने के लिए जैव-सुरक्षित बुलबुला बनाया जाएगा। राज्य संघों को किए गए ईमेल में बीसीसीआइ सचिव जय शाह ने छह केंद्रों की घोषणा की है, जहां टूर्नामेंट होगा। बीसीसीआइ ने इस टी20 टूर्नामेंट के लिए 6 ग्रुपों में टीमों को बांटा है।

दैनिक जागरण के सहयोगी वेबसाइट मिड-डे के मुताबिक, बैंगलोर, कोलकाता, वडोदरा, इंदौर, मुंबई और चेन्नई को 38 टीमों की मेजबानी करने का मौका मिलेगा। इस तरह 6 ग्रुपों में सभी लीग मुकाबले इन जगहों पर खेले जाएंगे। उन्हें ए, बी, सी, डी और ई के पांच अभिजात वर्ग समूहों में विभाजित किया गया है। चंडीगढ़, बिहार जैसी आठ नई राज्य टीमें और नॉर्थईस्ट के संगठन प्लेट समूह का हिस्सा होंगे।

मुंबई एलीट ई समूह का हिस्सा है और उनके सभी मैच अपने घरेलू मैदान पर खेले जाएंगे। ये टूर्नामेंट बीसीसीआइ के लिए महत्वपूर्ण है, क्योंकि उनका लक्ष्य अगले साल दो नई आइपीएल टीमों को पेश करना है और साथ ही एक मेगा नीलामी आयोजित करना है। शाह ने अपने ईमेल में कहा कि विस्तृत टूर्नामेंट कार्यक्रम तय समय पर साझा किया जाएगा। इस ईमेल में आगे ये भी कहा गया है कि टीमों को 2 जनवरी को या उससे पहले अपने सम्मानित स्थानों पर इकट्ठा होना होगा। राज्य नियामक अधिकारियों के अनुसार, उन्हें COVID-19 परीक्षण प्रक्रियाओं और क्वारंटाइन से गुजरना होगा।

शाह ने राज्य इकाइयों से "सक्रिय सहयोग" और "समर्थन" के लिए इस टूर्नामेंट को शानदार तरीके से सफल बनाने का आग्रह किया है। सैयद मुश्ताक अली ट्रॉफी 2021 के नॉकआउट मुकाबले अहमदाबाद के मोटेरा स्टेडियम में खेले जाएंगे। इस बात की भी पुष्टि बीसीसीआइ की ओर से राज्य संघों को जारी ईमेल में की गई है।

एलीट A: जगह- बैंगलोर

टीमें: जम्मू और कश्मीर, कर्नाटक, पंजाब, उत्तर प्रदेश, रेलवे और त्रिपुरा

एलीट B: जगह- कोलकाता

टीमें: ओडिशा, बंगाल, झारखंड, तमिलनाडु, असम और हैदराबाद

एलीट वर्ग C: जगह- वडोदरा

टीमें: गुजरात, महाराष्ट्र, छत्तीसगढ़, हिमाचल प्रदेश, बड़ौदा और उत्तराखंड

एलीट D: जगह- इंदौर

टीमें: सर्विसेज, सौराष्ट्र, विदर्भ, राजस्थान, मध्य प्रदेश और गोवा

एलीट E: जगह- मुंबई

टीमें: हरियाणा, आंध्र, दिल्ली, मुंबई, केरल और पुदुचेरी

प्लेट: जगह- चेन्नई

टीमें: चंडीगढ़, मेघालय, बिहार, नागालैंड, मणिपुर, मिजोरम, सिक्किम और अरुणाचल प्रदेश